इंग्लैंड में वार्नर का बल्ला रहा है खामोश, भारतीय टीम को मिलेगा लाभ

सिडनी (एजेंसी)। टेस्‍ट क्रिकेट में पिछले कुछ समय से ख्रराब प्रदर्शन के बाद भी ऑस्‍ट्रेलियाई बल्लेबाज डेविड वार्नर को भी विश्व टेस्‍ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) फाइनल के लिए टीम में जगह मिली है। इसका लाभ भारतीय टीम को मिलेगा। इसका कारण ये है कि वार्नर आईपीएल से पहले भारतीय टीम के खिलाफ हुई टेस्ट सीरीज में नाकाम रहे थे। इसके अलावा यह भी देखा गया है कि इंग्‍लैंड में आमतौर पर वार्नर रन नहीं बना पाते हैं। इससे भारतीय टीम के गेंदबाजों के लिए उन्हें आउट करना आसान रहेगा। टेस्‍ट क्रिकेट में करियर औसत 45 का है लेकिन बात जब इंग्‍लैंड में खेलने की होती है तो यह गिरकर महज 26 का रह जाता है। इंग्‍लैंड में 13 मैचों की 25 पारियों में वार्नर 651 रन ही बना पाए हैं। उनके नाम इंग्‍लैंड में एक भी शतक नहीं है। खराब फार्म के कारण ही उन्‍हें एशेज सीरीज और इंग्‍लैंड में होने वाले आगामी डब्‍ल्‍यूटीसी फाइनल से पहले उन्‍हें रिटायरमेंट की सलाह दी जा रही थी पर इसके बाद भी क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया सीए ने उन्हें अवसर दिया है।

विराट कोहली की कप्‍तानी वाली भारतीय टीम पिछली बार डब्ल्यूटीसी टेस्‍ट चैंपियनशिप के फाइनल में खिताब जीतने में असफल रही थी। अब उसका रोहित शर्मा की कप्ताली में भारतीय टीम का लक्ष्य कंगारुओं पर जीत हासिल कर खिताब अपने नाम करना रहेगा। बॉर्डर गावस्‍कर ट्रॉफी के दौरान भारतीय टीम इंडिया ने अपनी ही धरती पर ऑस्‍ट्रेलिया को 2-1 से हराया था। इस दौरान भी वार्नर का बल्‍ला भी खामोश ही रहा था। भारत को इसका सीधे तौर पर फायदा मिला था। ऐसे में वार्नर का ऑस्‍ट्रेलिया की टीम में होना भारत के लिए अच्‍छी खबर है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button