इन 5 महिला अधिकारियों को पहली बार लड़ाकू रेजिमेंट में किया गया शामिल, जानिए कहां-कहां हुई तैनाती

नई दिल्ली
भारतीय सेना की आर्टिलरी रेजिमेंट में पहली बार महिलाओं को मौका मिला है। आर्टिलरी रेजिमेंट में आज पांच महिला अधिकारियों को कमीशन किया गया है। ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी (OTA) चेन्नई में सफल प्रशिक्षण के बाद ये महिला अधिकारी आर्टिलरी रेजिमेंट का हिस्सा बन गई हैं। सूत्रों के मुताबिक, इन्हें सभी प्रकार की आर्टिलरी इकाइयों में शामिल किया जाएगा। सैन्य सूत्रों ने बताया कि रेजिमेंट ऑफ आर्टिलरी में शामिल होने वाली महिला अधिकारियों में लेफ्टिनेंट महक सैनी, लेफ्टिनेंट साक्षी दुबे, लेफ्टिनेंट अदिति यादव और लेफ्टिनेंट पवित्र मुदगिल शामिल हैं। पांच महिला अधिकारियों में से तीन को चीन की सीमा पर तैनात इकाइयों में तैनात किया गया है और अन्य दो को पाकिस्तान से लगती सीमा के पास "चुनौतीपूर्ण स्थानों" पर तैनात किया गया है।

महिला सैन्य अधिकारियों में लेफ्टिनेंट महक सैनी को एक SATA रेजिमेंट दिया गया है। वहीं, लेफ्टिनेंट साक्षी दुबे और लेफ्टिनेंट अदिति यादव को फील्ड रेजिमेंट में शामिल किया गया है। इनके अलावा लेफ्टिनेंट पवित्र मुदगिल को एक मीडियम रेजिमेंट और लेफ्टिनेंट आकांक्षा को एक रॉकेट रेजिमेंट में कमीशन दिया गया है।

अग्रिम युद्धक यूनिट में महिलाओं के लिए खुला रास्ता
भारतीय सेना की आर्टिलरी रेजिमेंट में महिलाओं का शामिल होना ऐतिहासिक माना जा रहा है। अभी तक महिलाएं के लिए सेना के इंजीनियर्स कोर, आर्मी एयर डिफेंस, इलेक्ट्रॉनिक्स एंड मैकेनिकलजज एडवोकेट जनरल डिपार्टमेंट, मेडिकल कॉ‌र्प्स इंजीनियर्स, मिलिट्री नर्सिंग सर्विस जैसी सेवाओं में विशेष कैडर था, लेकिन अब सेना ने महिलाओं और पुरुषों के बीच का फर्क खत्म करने के लिए ऐतिहासिक कदम उठाया है।

भारतीय सेना में महिलाओं की स्थिति क्या है?
भारत सरकार की तरफ से जारी की गई जानकारी के मुताबिक, तीनों सेनाओं की बात की जाए तो कुल 9,118 महिलाएं हैं जो सेना में कार्यरत हैं। साल 2019 से मुकाबले 2020 में भारत की तीनों सेनाओं में महिलाओं की संख्या बढ़ी है। भारत में महिलाएं अब केवल थल तक ही सीमित नहीं है। देश में महिलाएं सबसे ज्यादा नेवी में काम कर रही हैं।

करीब 6.5 प्रतिशत महिलाएं इस समय नेवी में तैनात हैं। महिलाओं को अब स्पेशल टास्क और ऑपरेशन में भी शामिल किया जा रहा है। वायुसेना की बात करें तो इसमें 1607 महिलाएं काम कर रही हैं। ऐसा देखा गया है कि भारतीय सेना में महिलाओं की संख्या तीन गुना बढ़ गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button