विकसित भारत के संकल्प को साकार करने का सशक्त माध्यम बनेगा नया संसद भवन:लोकसभा अध्यक्ष

नई दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 28 मई को नए संसद भवन का उद्घाटन करेंगे। लोकसभ सचिवालय के मुताबिक, स्पीकर ओम बिरला ने गुरुवार (18 मई) को पीएम मोदी से मुलाकात की और उन्हें नए संसद भवन के उद्धाटन के लिए आमंत्रित किया था।

नया संसद भवन करेगा संकल्प को साकार
ओम बिरला ने ट्वीट किया और लिखा कि 140 करोड़ से अधिक देशवासियों की आशाओं और उम्मीदों पर खरा उतरते हुए संसद का नवनिर्मित भवन भी साल 2047 तक विकसित भारत के हमारे संकल्प को साकार करने का सशक्त माध्यम बनेगा। लोकसभा अध्यक्ष ने इस साल 28 मई को पीएम मोदी द्वारा लॉन्च किए जाने वाले नए संसद भवन की सराहना की और कहा कि यह भारत की गौरवशाली लोकतांत्रिक परंपराओं को समृद्ध करेगा।

28 मई को PM करेंगे उद्घाटन
बिरला ने ट्वीट किया कि संसद का नवनिर्मित भवन भारत की गौरवशाली लोकतांत्रिक परंपराओं और संवैधानिक मूल्यों को और समृद्ध करेगा। इस भवन में माननीय सदस्य देश और नागरिकों के प्रति अपने कर्तव्यों का बेहतर ढंग से निर्वहन कर सकेंगे। माननीय प्रधानमंत्री @narendramodi 28 मई को इस भवन को राष्ट्र को समर्पित करेंगे। लोकसभा की एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि राष्ट्रीय राजधानी में नए संसद भवन का निर्माण पूरा हो गया है और यह आत्मनिर्भर भारत की भावना का प्रतीक है।

PM ने 2020 में किया था शिलान्यास
संसद का वर्तमान भवन 1927 में बनकर तैयार हुआ था और अब लगभग 100 साल पुराना होने जा रहा है। लोकसभा और राज्यसभा दोनों ने प्रस्ताव पारित कर सरकार से संसद के लिए एक नया भवन बनाने का आग्रह किया। संसद के नए भवन का शिलान्यास पीएम मोदी ने 10 दिसंबर, 2020 को किया था। नवनिर्मित संसद भवन को गुणवत्तापूर्ण निर्माण के साथ रिकॉर्ड समय में तैयार किया गया है। 888 सदस्य लोकसभा में बैठ सकेंगे। संसद के वर्तमान भवन में लोक सभा में 543 और राज्य सभा में 250 सदस्यों के बैठने का प्रावधान है। भविष्य की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए संसद के नवनिर्मित भवन में लोकसभा में 888 और राज्य सभा में 384 सदस्यों की बैठक कराने की व्यवस्था की गई है। दोनों सदनों का संयुक्त सत्र लोकसभा चैंबर में होगा।

कितने लोग बैठ सकेंगे?
पुरानी बिल्डिंग की तरह ही नई इमारत में भी लोकसभा और राज्यसभा के लिए दो अलग-अलग चेंबर होंगे। लोकसभा चेंबर में जहां एक साथ 888 सदस्य सदस्यों के बैठने की व्यवस्था की गई है। वहीं राज्यसभा के चेंबर में एक साथ 384 सदस्य बैठ सकेंगे। पुरानी बिल्डिंग में संयुक्त सत्र का आयोजन सेंट्रल हॉल में किया जाता था, लेकिन नए इमारत में इसका आयोजन लोकसभा चेंबर में किया जाएगा, जिसमें जरुरत पड़ने पर एक साथ 1280 सांसद बैठ सकेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button