रियल कबड्डी के तीसरे सीजन का आयोजन सितंबर में

जयपुर
रियल कबड्डी का तीसरा सीज़न सितंबर के अंत में आयोजित किया जाएगा, टूर्नामेंट के आयोजक अटलांचर स्पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड ने उक्त जानकारी दी। बता दें कि रियल कबड्डी सीजन 2 में 8 टीमों के बीच 32 मैच खेले गए।

सीजन 2 में हिस्सा लेने वाली टीमों में जयपुर जगुआर, शेखावाटी किंग्स, चंबल पाइरेट्स, मेवाड़ मोंक्स, बिकाना राइडर्स, जोधाना वॉरियर्स, अरावली ईगल्स और सिंह सूरमा शामिल हैं। सीजन 3 बड़ा और बेहतर होगा।

अटलांचर स्पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के संस्थापक शुभम चौधरी ने एक बयान में कहा, ''रियल कबड्डी का सीज़न 2 एक अद्भुत सफलता थी, और हम सीज़न 3 को बड़ी सफलता बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। अटलांचर स्पोर्ट्स में हम घरेलू खेलों को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं।''

अटलांचर स्पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के सह-संस्थापक लवीश चौधरी ने कहा, ''रियल कबड्डी स्थानीय-क्षेत्रीय टियर II और टियर III कबड्डी खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करती है और उन्हें प्रदर्शन करने का मौका प्रदान करती है। यह मंच पूरे दिल से खिलाड़ियों को खेल की दुनिया में अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर पाने में सहायता कर रहा है।''

एफआईएच प्रो लीग 2022-23: चौथे स्थान पर रही भारतीय पुरुष हॉकी टीम

नई दिल्ली
 भारतीय पुरुष हॉकी टीम एफआईएच प्रो लीग 2022-23 में 16 मैचों में 30 अंकों के साथ चौथे स्थान पर रही।

यह दूसरी बार है, जब भारतीय टीम एफआईएच प्रो लीग में चौथे स्थान पर रही, इससे पहले 2020-21 में अपने पहले सीज़न में भी भारत ने यही स्थान हासिल किया था। भारतीय हॉकी टीम 2021-22 सीज़न में तीसरे स्थान पर रही थी।

एफआईएच प्रो लीग 2022-23 अभियान क्रेग फुल्टन द्वारा प्रशिक्षित भारतीय हॉकी टीम की यात्रा दो हिस्सों में रही।

घरेलू मैदान पर खेले गए सीज़न के पहले चरण में, भारत ने प्रभावशाली प्रदर्शन किया। पहले चरण में भारत ने, पाँच मैच जीते, दो ड्रा रहे और एक में हार मिली। भारत को अपने घरेलू चरण में एकमात्र हार भुवनेश्वर में स्पेन के खिलाफ 3-2 से मिली थी।

इस दौरान भारत ने कुछ यादगार जीत भी हासिल की थी, जिनमें मौजूदा विश्व चैंपियन जर्मनी पर डबल (3-2 और 6-3) जीत शामिल है।

कॉमनवेल्थ गेम्स चैंपियन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत ने पहला मैच 5-4 से जीता जबकि दूसरा मैच 2-2 से ड्रा रहा। भारत ने यह मैच शूटआउट में 4-3 से जीता।

हालाँकि, यूरोप में खेला गया अवे लेग उतना उपयोगी साबित नहीं हुआ। भारत लंदन और आइंडहोवन में खेले गए अपने मुकाबलों के यूरोपीय चरण से पहले एफआईएच प्रो लीग अंक तालिका में शीर्ष पर था। हालाँकि, भारतीय पुरुष हॉकी टीम आठ विदेशी मैचों में से केवल तीन जीत सकी। टीम को चार में हार मिली और एक ड्रॉ रहा। भारत की जीत अर्जेंटीना (2) और बेल्जियम (1) के खिलाफ हुई। इस बीच, वे अंतिम चैंपियन नीदरलैंड के खिलाफ अपने दोनों मैच हार गए।

भारत ने अपने अंतिम मैच में अर्जेंटीना को 2-0 से हराकर 16 मैचों में 30 अंकों के साथ अंक तालिका में शीर्ष पर अपना अभियान समाप्त किया, लेकिन यह उन्हें अपना पहला खिताब दिलाने के लिए पर्याप्त नहीं था। अन्य टीमें बाद में अपने मैच जीतकर स्टैंडिंग में भारत से आगे निकल गईं।

नीदरलैंड्स (16 मैचों में 35 अंक) ने चुनौती देने वाले ग्रेट ब्रिटेन (32 अंक) को हराकर अपने ताज का सफलतापूर्वक बचाव किया। बेल्जियम, 30 अंकों के साथ तीसरे नम्बर पर रहा, क्योंकि बेल्जियम ने भारत के मुकाबले अधिक मैच जीते थे। बेल्जियम ने 10 जबकि भारत ने 8 मैच जीते थे।

न्यूज़ीलैंड, केवल तीन अंकों के साथ, अंतिम स्थान पर रहा और अगले सीज़न के लिए एफआईएच मेन्स नेशंस कप से बाहर हो गया।

दिलचस्प बात यह है कि भारत ने एफआईएच प्रो लीग 2022-23 में अपने तीनों शूटआउट (स्पेन के खिलाफ 3-1 से, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 4-3 से और ग्रेट ब्रिटेन के खिलाफ 4-2 से) जीते।

 

  

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button