बालासोर जाएंगे PM मोदी, ट्रेन हादसे के 10 बड़े अपडेट्स

बालासोर. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ओडिशा में हुई ट्रेन दुर्घटना के संबंध में स्थिति की समीक्षा के लिए एक बैठक बुलाई है। इसके साथ ही पीएम मोदी बालासोर में हादसे वाली जगह पर जाएंगे और घायलों से मुलाकात करेंगे। सरकारी सूत्रों ने शनिवार को यह जानकारी दी। ओडिशा के बालासोर जिले में शुक्रवार शाम को कोरोमंडल एक्सप्रेस और बेंगलुरु-हावड़ा एक्सप्रेस ट्रेन के पटरी से उतरने और एक मालगाड़ी से टकराने से जुड़े रेल हादसे में अब तक 288 लोगों की मौत हो चुकी है और 1000 से अधिक लोग घायल हुए हैं। भुवनेश्वर में अधिकारियों ने बताया कि 1,200 कर्मियों के अलावा 200 एंबुलेंस, 50 बस और 45 सचल स्वास्थ्य इकाइयां दुर्घटनास्थल पर काम कर रही हैं।

कैसे हुआ हदसा

रेल पटरी पर तेज रफ्तार से दौड़ती कोरोमंडल एक्सप्रेस चेन्नई की ओर जा रही थी. कोरोमंडल एक्सप्रेस बालासोर स्टेशन के करीब बहनागा बाजार स्टेशन के पास हादसे का शिकार हो गई. बताया जा रहा है बहानगा बाजार स्टेशन के पास आउटर पर मालगाड़ी खड़ी थी. हावड़ा से चेन्नई जा रही कोरोमंडल एक्सप्रेस के कुछ डिब्बे बहानगा बाजार स्टेशन से करीब 300 मीटर पहले पटरी से उतर गए.

कोरोमंडल एक्सप्रेस का इंजन पटरी से उतरने के बाद आउटर पर खड़ी मालगाड़ी पर चढ़ गया. ट्रेन की सबसे पीछे की बोगी तीसरे ट्रैक पर जा गिरी. बताया जाता है कि इसी बीच तीसरे ट्रैक पर यशवंतपुर एक्सप्रेस आ गई. यशवंतपुर एक्सप्रेस तीसरे ट्रैक पर पड़े दुर्घटनाग्रस्त कोरोमंडल एक्सप्रेस के डिब्बे से जा टकराई. तीन ट्रेनों की इस टक्कर में ढाई सौ अधिक लोगों की मौत हो गई है. 900 से अधिक लोग घायल भी हुए हैं.

रेस्क्यू ऑपरेशन में लगाए गए MI 17 हेलीकॉप्टर

भारतीय वायुसेना द्वारा राहत और बचाव कार्यों के लिए 02 एमआई-17 हेलीकॉप्टरों को तैनात किया गया है. जमीनी स्तर पर रेलवे अधिकारियों के तालमेल के साथ रेस्क्यू ऑपरेशन को अंजाम दिया जा रहा है. इसके अलावा कई अतिरिक्त बसों और ट्रेन कोचों का भी इंतजाम किया गया है और फंसे हुए यात्रियों को उनके गंतव्य की तरफ रवाना किया जा रहा है.

घंटों बाद भी रेस्क्यू जारी

कोरोमंडल एक्सप्रेस और मालगाड़ी की टक्कर शुक्रवार की रात करीब 8 बजकर 30 मिनट पर हुई थी. हादसे के बाद करीब 12 घंटे का समय बीत चुका है और रेस्क्यू ऑपरेशन अभी भी जारी है. कोरोमंडल एक्सप्रेस में अभी भी यात्रियों के फंसे होने की आशंका जताई जा रही है. एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के साथ ही सेना के जवान भी रेस्क्यू में जुटे हैं. वायु सेना को भी अलर्ट पर रखा गया है. रेस्क्यू में वायु सेना के एक हेलिकॉप्टर की भी मदद ली जा रही है.

बालासोर के बहानगा बाजार स्टेशन पर ट्रेन हादसे की खबर से रेलवे के साथ ही प्रशासनिक महकमे में भी हड़कंप मच गया. रेलवे के साथ ही प्रशासन ने भी रेस्क्यू के लिए मौके पर राहत टीमें रवाना कर दीं. एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, स्थानीय पुलिस, रेलवे पुलिस के साथ ही सेना के जवान भी राहत और बचाव कार्य में जुटे हुए हैं. रेस्क्यू ऑपरेशन पूरी रात चला. रेस्क्यू किए गए यात्रियों को हॉस्पिटल ले जाने के लिए 200 से अधिक एम्बुलेंस भी लगाई गई है.

गैस कटर से काटनी पड़ी बोगियां

हादसे के बाद जो तस्वीरें सामने आई हैं, वह ये बयान कर रही हैं कि हादसा कितना भयावह है. एक दूसरे से चिपकी बोगियां, मालगाड़ी के डिब्बे पर चढ़ा कोरोमंडल एक्सप्रेस का इंजन और मौके पर बिखरे सामान हादसे का मंजर बयान कर रहे हैं. ट्रेन के कई डिब्बों की हालत तो ऐसी थी कि रेस्क्यू के लिए इन्हें गैस कटर से काटना पड़ा. क्षेत्रीय लोगों के मुताबिक हादसे के बाद कुछ देर तक तेज आवाज लगातार गूंजती रही जिसे सुनकर वे मौके की ओर दौड़े.

रेलवे की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक कोरोमंडल एक्सप्रेस के कोच बी2 से बी9 तक पलट गए. ए1 और ए2 भी भी ट्रैक पर पलट गए तो वहीं कोच संख्या बी1 और इंजन पटरी से उतर गए. बेंगलुरु हावड़ा मेल का एक जीएस कोच क्षतिग्रस्त हुआ है. पीछे का जीएस कोच और दो डिब्बे पटरी से उतर कर पलट गए. रेलवे ने इस हादसे की उच्च स्तरीय जांच के आदेश दे दिए हैं.

भुवनेश्वर तक हॉस्पिटल अलर्ट

केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने आजतक से बात करते हुए कहा कि हमारी प्राथमिकता अभी रेस्क्यू ऑपरेशन है. उन्होंने ये भी कहा कि घायलों को बेहतर से बेहतर उपचार उपलब्ध कराया जा सके, हमारा ध्यान इस पर है. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार के साथ मिलकर हम काम कर रहे हैं. बालासोर से लेकर भुवनेश्वर तक के हॉस्पिटल्स को एक्टिवेट कर दिया गया है. सभी हॉस्पिटल अलर्ट हैं.

अब तक 280 की मौत

बालासोर रेल हादसे में अब तक 280 लोगों की जान जा चुकी है. 900 से अधिक लोग गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं. कोरोमंडल एक्सप्रेस में अभी भी यात्रियों के फंसे होने की आशंका जताई जा रही है. मृतकों और घायलों की तादाद और बढ़ने की आशंका जताई जा रही है. मौके पर रेस्क्यू ऑपरेशन अभी जारी है.

मृतकों के परिजनों को 12 लाख मुआवजा

बालासोर रेल हादसे में जान गंवाने वालों के परिजनों को रेलवे ने 10-10 लाख रुपये की सहायता राशि देने का ऐलान किया है. रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने हादसे को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख, गंभीर रूप से घायलों को दो-दो लाख रुपये और मामूली रूप से घायलों को 50-50 हजार रुपये की सहायता राशि देने का ऐलान किया. प्रधानमंत्री कार्यालय ने भी मृतकों को दो-दो लाख और घायलों को 50-50 हजार रुपये की सहायता का ऐलान किया है.

मौके पर पहुंचे रेल मंत्री और नवीन पटनायक

बालासोर रेल हादसे के बाद केंद्र से राज्य सरकार तक, हर कोई अलर्ट मोड में है. रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मौके पर पहुंचकर रेस्क्यू ऑपरेशन का जायजा लिया. वहीं, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी मौके पर जाएंगे. तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश की सरकार ने भी मौके पर डेलिगेशन भेजने का ऐलान किया है.

ओडिशा-तमिलनाडु में राजकीय शोक

बालासोर रेल हादसे को लेकर ओडिशा और तमिलनाडु की सरकार ने एक दिन के राजकीय शोक का ऐलान किया है. दोनों राज्यों में आज सभी सरकारी आयोजन निरस्त कर दिए गए हैं. तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने हादसे पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए ओडिशा के अपने समकक्ष नवीन पटनायक से बात करने की जानकारी दी है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button