महाराज चार्ल्स तृतीय के राज्याभिषेक समारोह में धर्मार्थ कार्य से जुड़े लोग भी होंगे शामिल

लंदन
 लंदन के वेस्टमिंस्टर अबे में महाराज चार्ल्स तृतीय के राज्याभिषेक के लिए शनिवार को एकत्रित होने वाले 2,200 लोगों में शाही परिवार के सदस्य, विश्व के नेता और वेल्स के राजकुमार के तौर पर उनकी धर्मार्थ पहल से जुड़े रहे भारतीय समुदाय के कार्यकर्ता भी शामिल होंगे। यह जानकारी बकिंघम पैलेस की ओर से दी गई।

 जारी की गई अतिथि सूची की एक झलक में, यह सामने आया कि एक वास्तुकार, एक सलाहकार और एक नवोदित शेफ उन भारतीयों में शामिल हैं जो अबे में राष्ट्र प्रमुखों और सरकार के प्रमुख के साथ बैठेंगे।

इस भव्य समारोह में उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ के भारत का प्रतिनिधित्व करने की उम्मीद है। ऐसा समारोह अंतिम बार करीब 70 साल पहले देखा गया था जब चार्ल्स की दिवंगत मां महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की जून 1953 में ताजपोशी हुई थी।

बकिंघम पैलेस ने कहा, ‘समारोह में शामिल होने वाले मेहमानों में शाही परिवार के सदस्यों के साथ-साथ 203 देशों के अंतरराष्ट्रीय प्रतिनिधि शामिल होंगे, जिनमें लगभग 100 राष्ट्राध्यक्ष होंगे।’

समारोह में शामिल होने वालों में सौरभ फड़के भी होंगे जो प्रिंस फाउंडेशन बिल्डिंग क्राफ्ट प्रोग्राम के स्नातक हैं और उन्होंने चार्ल्स द्वारा डम्फ़्रीज़ हाउस, स्कॉटलैंड में स्थापित प्रिंस फाउंडेशन स्कूल ऑफ ट्रेडिशनल आर्ट्स से अध्ययन किया है।

इसके साथ ही समारोह में हिस्सा लेने वालों में गुलफ्शा भी शामिल हैं, जिन्हें 2022 में प्रिंस ट्रस्ट ग्लोबल अवार्ड से सम्मानित किया गया था।

समारोह में आमंत्रित व्यक्तियों में कनाडा से, भारतीय मूल के जय पटेल भी शामिल हैं जिन्होंने मई 2022 में प्रिंस ट्रस्ट कनाडा का युवा रोजगार कार्यक्रम पूरा किया था।

समग्र अतिथि सूची में संसद सदस्य, पूर्व ब्रिटिश प्रधानमंत्री, चर्च और अन्य धर्मों के प्रतिनिधि, देश की रक्षा सेवाओं के प्रतिनिधि, नोबेल पुरस्कार विजेता और ब्रिटिश साम्राज्य पदक (बीईएम) प्राप्तकर्ता भी शामिल होंगे।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button