जंतर-मंतर पर रात भर ड्रामा, सुबह पुलिस तैनात, रेसलर्स का मेडल लौटाने का ऐलान

नईदिल्ली . दिल्ली के जंतर-मंतर पर रात भर चले हाईवोल्टेज ड्रामे के बाद गुरुवार की सुबह वहां भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है। जंतर-मंतर पर प्रदर्शन कर रहे देश के पहलवानों के साथ बुधवार की देर रात पुलिस की धक्कामुक्की हुई और पहलवानों ने कई आरोप भी पुलिस पर लगाए। रात की कई तस्वीरें सामने आईं जिसमें वहां हो रहे हंगामे को साफ देखा जा सकता है। इसके बाद सुबह की भी तस्वीरें सामने आईं जिनमें पुलिस की भारी तैनाती नजर आई। पुलिस ने धरना स्थल के पास बैरिकेड लगा रखे थे। बताया जा रहा है कि पहलवानों के प्रदर्शन स्थल पर किसी के आने जाने को अनुमति फिलहाल नहीं दी जा रही है। प्रदर्शन स्थल पर पहलवान अब भी डटे हुए हैं।

इस हाथापाई में कुछ प्रदर्शनकारियों के सिर में चोटें भी आई हैं. बुधवार रात को हुई घटना के बाद अब विनेश फोगाट ने ऐलान किया है कि पहलवान राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जीते हुए सभी मेडल लौटाएंगे.

दरअसल, जंतर मंतर पर पहलवान 23 अप्रैल से कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं. पहलवानों ने बृजभूषण पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है और उनकी गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं. आइए 10 सवाल-जवाब में जानते हैं कि आखिर बुधवार की रात क्या हुआ, पहलवानों के क्या आरोप हैं, पुलिस का क्या कहना है?

बताया जा रहा है कि आम आदमी पार्टी के नेता सोमनाथ भारती देर रात पहलवानों के लिए बिस्तर और फोल्डिंग लेकर वहां पहुंचे थे। जिसके बाद धीरे-धीरे यह पूरा हंगामा शुरू हुआ। पुलिस ने कहा कि वहां पर यह सब सामान ले जाने की अनुमति पहले से नहीं ली गई थी इसके बावजूद एक ट्रक के जरिए इन सामानों को वहां पहुंचाने की कोशिश की गई। इस दौरान सोमनाथ भारती समेत कुछ अन्य लोगों को हिरासत में ले लिया गया।

अब सोमनाथ भारती ने एक वीडियो जारी किया है और बताया है कि पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने के बाद वो रात भर कहां थे? सोमनाथ भारती ने बताया कि वो रात भर कापसहेड़ा थाने में रहे। इस वीडियो में सोमनाथ भारती कहते हैं, 'मैं इस वक्त कापसहेड़ा थाने में हूं और पूरी रात इसी तरह थाने के अंदर मैं बैठा रहा। भाजपा शासित दिल्ली पुलिस ने मुझे सिर्फ इसलिए हिरासत में ले लिया क्योंकि जो महिला पहलवान अपने हक के लिए लड़ाई लड़ रही हैं मैंने उनका साथ दे दिया। एक ऐसा व्यक्ति जिसने उनका शोषण किया वो खुलेआम घूम रहे हैं।

अब आगे क्या?

– विनेश फोगाट ने ऐलान किया कि पहलवान अपने सभी मेडल लौटाएंगे.
– दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल धरने दे रहे पहलवानों से मिलने पहुंचीं.
– पहलवानों ने किसान संगठनों से धरना स्थल पर पहुंचने की अपील की है.
– जंतर मंतर पर जयंत चौधरी थोड़ी देर में पहुंच सकते हैं. भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर भी उनके साथ होंगे.
– आम आदमी पार्टी के नेता गोपाल राय ने कहा है कि वे पहलवानों के समर्थन में पंचायत करेंगे.

पहलवान क्यों दे रहे धरना?

पहलवान 23 अप्रैल से धरना दे रहे हैं. इससे पहले 18 जनवरी को पहलवानों ने बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया था.तब पहलवानों ने बृजभूषण शरण सिंह और कोच पर महिला पहलवानों का यौन उत्पीड़न, अभद्रता, क्षेत्रवाद जैसे गंभीर आरोप लगाए थे. हालांकि, खेल मंत्रालय के दखल के बाद पहलवानों ने अपना धरना खत्म कर दिया था. तब खेल मंत्रालय ने पहलवानों द्वारा लगाए जा रहे आरोपों की जांच के लिए कमेटी का गठन किया था. अब तीन महीने बाद पहलवान फिर धरना दे रहे हैं. पहलवानों ने अब कमेटी पर ही सवाल खड़े किए हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button