ऑफर लेटर वायरल: दीपक पारेख ने जब एचडीएफसी ज्वाइन किया था तो इतनी थी सैलरी

नई दिल्ली
एचडीएफसी के पूर्व चेयरमैन दीपक पारेख को 45 साल पहले मिले ऑफर लेटर के अनुसार, पारेख को ₹3,500 का मूल वेतन और निश्चित महंगाई भत्ते के रूप में ₹500 की पेशकश की गई थी। हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉरपोरेशन (HDFC) और HDFC Bank के बीच मेगा-मर्जर के साथ दीपक पारेख ने एक भावनात्मक पत्र में अपनी सेवानिवृत्ति की घोषणा करते हुए कहा कि अब उनके लिए ''अपने पद से इस्तीफा देने'' का समय आ गया है। विलय 1 जुलाई को हुआ, जिससे एचडीएफसी दुनिया का चौथा सबसे बड़ा बैंक बन गया।

वायरल ऑफर लेटर में क्या है
19 जुलाई, 1978 का एक ऑफर लेटर ऑनलाइन सामने आया है, जिसमें दीपक पारेख के सैलरी का खुलासा किया गया है। 45 साल पहले एचडीएफसी में पारेख अपने चाचा की कंपनी एचडीएफसी लिमिटेड में उप महाप्रबंधक के रूप में शामिल हुए। ऑफर लेटर के अनुसार, पारेख को ₹3,500 का मूल वेतन और निश्चित महंगाई भत्ते (Dearness Allowance) के रूप में ₹500 की पेशकश की गई थी। वह 15 प्रतिशत आवास किराया भत्ता (Housing Rent Allowance) और 10 प्रतिशत शहरी प्रतिपूरक भत्ता (City Compensatory Allowance ) के भी हकदार थे। इसके अलावा वह भविष्य निधि, ग्रेच्युटी, चिकित्सा लाभ और नियमों के अनुसार अवकाश यात्रा सुविधाओं के भी हकदार थे। ऑफर लेटर के अनुसार, एचडीएफसी उनके आवासीय टेलीफोन के खर्च को भी देने को तैयार था।

एचडीएफसी के साथ 45 साल के करियर के साथ पारेख ने देश के वित्तीय सेवा क्षेत्र में एक सदी में एक बार मिलने वाली विरासत को पीछे छोड़ दिया है। विलय के बाद, आयु सीमा पर भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के नियमों के कारण पारेख बैंक के बोर्ड में काम नहीं करेंगे। पारेख के तहत, एचडीएफसी ने नौ मिलियन से अधिक भारतीयों को होम लोन प्रदान किया है और अपनी ऋण पुस्तिका को ₹7.24 लाख करोड़ तक बढ़ाया है।

निवेशकों पर मर्जर का असर
एचडीएफसी और एचडीएफसी बैंक के बीच 1 जुलाई को हुआ मेगा बैंकिंग विलय पूरा हो गया है और 13 जुलाई को विलय के लिए रिकॉर्ड तिथि निर्धारित की गई है। इसलिए, 14 जुलाई से एचडीएफसी के शेयरों में कारोबार बंद हो जाएगा। एचडीएफसी लिमिटेड के सभी शेयरधारकों को एचडीएफसी लिमिटेड में रखे गए प्रत्येक 25 शेयरों के लिए एचडीएफसी बैंक के 42 शेयर मिलेंगे। 5 जुलाई को, एचडीएफसी बैंक के शेयर बीएसई पर ₹1,728.65 के पिछले बंद स्तर की तुलना में 3.20 प्रतिशत कम होकर ₹1,673.30 पर बंद हुए।
 
विलय के साथ एचडीएफसी बैंक की संयुक्त बाजार पूंजी 14,73,953 करोड़ रुपये होगी, जो टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज या टीसीएस की 12,07,669.91 करोड़ रुपये से अधिक है। बाजार पूंजीकरण के मामले में, एचडीएफसी बैंक रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के बाद दूसरी सबसे मूल्यवान भारतीय कंपनी बन जाएगी। रिलायंस अपनी मौजूदा बाजार पूंजी ₹17,25,704.60 करोड़ के साथ नंबर वन रहेगी। हालांकि, विलय के बाद एचडीएफसी बैंक मार्केट कैप के मामले में दूसरे नंबर पर होगा।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button