भाजपा ने 4 राज्यों में चुनाव प्रभारी नियुक्त किए भूपेंद्र यादव को मध्य प्रदेश की जिम्मेदारी

इसी साल के अंत तक दिन चार राज्यों में विधानसभा के चुनाव होना है। वहां चुनाव प्रभारी के रूप में मंत्रियों की नियुक्ति भाजपा ने करती है। मध्यप्रदेश के लिए भूपेंद्र यादव को प्रभारी बनाया गया है। सह प्रभारी के रूप में अश्वनी वैष्णव उनका साथ देंगे। इसी प्रकार राजस्थान, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना के प्रभारी भी नियुक्त किए गए हैं। मध्य प्रदेश में चुनाव प्रभारी नियुक्त होने के बाद किसी भी प्रकार के परिवर्तन संबंधी सारी अटकलें अपने आप समाप्त हो गई है।

विशेष प्रतिनिधि, नई दिल्ली। इसी साल के अंत तक दिन चार राज्यों में विधानसभा के चुनाव होना है। वहां चुनाव प्रभारी के रूप में मंत्रियों की नियुक्ति भाजपा ने करती है। मध्यप्रदेश के लिए भूपेंद्र यादव को प्रभारी बनाया गया है। सह प्रभारी के रूप में अश्वनी वैष्णव उनका साथ देंगे। इसी प्रकार राजस्थान, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना के प्रभारी भी नियुक्त किए गए हैं। मध्य प्रदेश में चुनाव प्रभारी नियुक्त होने के बाद किसी भी प्रकार के परिवर्तन संबंधी सारी अटकलें अपने आप समाप्त हो गई है।
भारतीय जनता पार्टी केंद्रीय नेतृत्व ने भूपेंद्र यादव को मध्य प्रदेश का चुनाव प्रभारी बनाया है। श्री यादव संगठन मामलों के जानकार तथा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के करीबी माने जाते है। उन्हें ही पिछले दिनों नरेंद्र मोदी के 9 साल के कार्यकाल की उपलब्धियों की जानकारी देने के लिए मध्यप्रदेश में भेजा गया था। अब वे प्रदेश में चुनाव संबंधी गतिविधियों को देखेंगे। उनका साथ देने के लिए केंद्रीय रेल राज्यमंत्री अश्वनी वैष्णव को सह प्रभारी बनाकर भेजा गया है। दोनों नेता तकनीकी और राजनीतिक क्षमताओं से युक्त हैं। इसी प्रकार राजस्थान के लिए प्रह्लाद जोशी को चुनाव प्रभारी बनाया गया है। उनका साथ देने के लिए गुजरात के पूर्व उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल और हरियाणा के कुलदीप बिश्नोई को सहयोगी बनाया गया है। राजस्थान में बिश्नोई समाज का अच्छा खासा वोट बैंक है और कुलदीप बिश्नोई समाज में अच्छी पकड़ रखते हैं।
छत्तीसगढ़ के लिए वरिष्ठ संगठन ओम प्रकाश माथुर को चुनाव प्रभारी बनाया गया है। उनके सहयोगी के रुप में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया को छत्तीसगढ़ की जिम्मेदारी दी गई है। शुक्रवार को ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छत्तीसगढ़ में एक आम सभा को संबोधित किया था। जिसमें उन्होंने छत्तीसगढ़ में भाजपा की क्या चुनाव रणनीति होगी उसका स्पष्ट संदेश दे दिया था। ओम प्रकाश माथुर छत्तीसगढ़ के संगठन का काम पहले से ही देख रहे हैं। श्री माथुर को नरेंद्र मोदी का घास माना जाता है। इस प्रकार छत्तीसगढ़ में नए राजनीतिक समीकरण बनाने के प्रयास किए जाएंगे। भाजपा छत्तीसगढ़ में लगातार दो बार से सरकार में थी। 2018 के चुनाव में 3 राज्यों से सत्ता से हुई बाहर हुई भाजपा छत्तीसगढ़ में ही सबसे कमजोर दिखाई देती है। इसलिए गुजरात के मनसुख भाई को ओम प्रकाश माथुर के साथ छत्तीसगढ़ में लाया गया है।
कर्नाटक में हार के बाद भाजपा के लिए तेलंगाना के चुनाव बहुत महत्वपूर्ण हो गए हैं। तेलंगाना से चुनाव जीतकर दक्षिण का दरवाजा भाजपा वापस खोलना चाहती है। तेलंगाना में चुनावी रणनीति बनाने के लिए पूर्व मंत्री और पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता रहे प्रकाश जावड़ेकर को प्रभारी बनाया गया है। जावड़ेकर के सहयोगी के रुप में उत्तर प्रदेश में अपना जौहर दिखा चुके सुनील बंसल उनका सहयोग देंगे। उन्हें सह चुनाव प्रभारी बनाया गया है। सुनील बंसल का अमित शाह के साथ यूपी में गजब का तालमेल हुआ है। जिसके कारण वहां अप्रत्याशित चुनाव परिणाम आए थे। भाजपा तेलंगाना में भी ऐसी ही उम्मीद देख रही है।
मध्य प्रदेश में चुनाव प्रभारी घोषित किए जाने के बाद संगठन में बदलाव संबंधी समस्त अफवाहों पर विराम लग गया है। हालांकि शिखर वाणी ने अनेक अवसरों पर मध्यप्रदेश में किसी भी प्रकार का बदलाव न होंने संबंधित समाचार प्रकाशित किए हैं। हमारे समाचारों की पुष्टि हुई है। अब चुनाव प्रभारी घोषित होने के बाद मध्य प्रदेश में चुनाव संबंधी गतिविधियां तेजी से आगे बढ़ेंगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button