अतिक्रमण के बाद अब ट्रैफिक व्यवस्था सुधारने पर जोर, सड़क पर उतरेंगे कलेक्टर

सड़क सुरक्षा समिति हुए कई अहम निर्णय

भोपाल। कलेक्टर आशीष सिंह शहर की समस्याओं को दूर करने के लिए सक्रिय हैं। पहले अतिक्रमण हटाने की कवायद और अब शहर के बिगड़ैल ट्रैफिक व्यवस्था को पटरी पर लाने की तैयारी है। तीन मई को खुद कलेक्टर आशीष सिंह अपने पूरे दल-बल के साथ सड़कों पर उतरेंगे। जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में पूरी रूपरेखा तैयार की गई। इस दौरान नगर निगम आयुक्त केवीएस चौधरी, एडीशनल डीसीपी संदीप दीक्षित सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में यातायात व्यवस्था, पार्किंग, ब्लैक स्पाट, लेफ्ट टर्न, अतिक्रमण, जर्जर सड़क, रोटरी, मल्टीलेवल पार्किंग आदि बिंदुओं पर चर्चा हुई। इन्हीं सभी व्यवस्थाओं को सुधारने के लिए कलेक्टर आशीष सिंह बुधवार तीन मई को सुबह साढ़े नौ से दोपहर ढाई बजे तक यातायात पुलिस, बिजली कंपनी, नगर निगम, पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों सहित अन्य विशेषज्ञों के साथ विभिन्न मार्गों का निरीक्षण करेंगे।

स्पीड ब्रेकर के लिए अनुमति जरूरी

ट्रैफिक पुलिस जरूरत और सर्वे के बाद स्पीड ब्रेकर बनाती है, लेकिन अन्य एजेंसी लोकल डिमांड पर स्पीड ब्रेकर बना देती हैं। ऐसे में कई रास्तों पर तो 50-50 मीटर की दूरी तक पर स्पीड ब्रेकर बन जाते हैं। बिना रोड इंजीनयरिंग के स्पीड ब्रेकर बनने से ओवर स्पीड पर कंट्रोल होता है, लेकिन इससे ट्रैफिक में बाधा होने लगती है। बता दें कि शहर में स्पीड ब्रेकर में कई हादसों में लोगों की जान जा चुकी है। बे्रकर में जरूरी मापदंड का पालन नहीं किया जाता, जिससे वाहन चालक बे्रकर को देख नहीं पाता और दुर्घटना हो जाती है। एडिशनल डीसीपी ट्रैफिक संदीप दीक्षित ने बताया कि आगे से जो भी स्पीड ब्रेकर बनाए जाएंगे, उसके लिए पहले संबंधित एजेंसी को एक प्रस्ताव सड़क सुरक्षा समिति के सामने रखना होगा। समिति रोड इंजीनियरिंग और वाहन की अधिकतम गति को तय करने की जरूरत के अनुसार ब्रेकर बनाएगी।

पार्किंग में खड़े हों वाहन तो ट्रैफिक जाम से मिलेगी राहत: शहर में चार मल्टी लेवल पार्किंग हैं, जिनमें एमपीनगर, न्यूमार्केट, मोती मस्जिद, चटोरी गली में स्थित है। इन सभी में वाहनों को अधिक से अधिक पार्क कराया जाएगा, जिससे कि सड़कों पर अव्यवस्थित वाहनों की सं या कम हो। साथ ही इन पार्किंग के बाहर ई-रिक्शा तैनात किए जाएंगे, ताकि लोगों को यहां से आवागमन करने में सहूलियत रहे। वर्तमान में ये पार्किंग खाली पड़ी रहती है जबकि पार्किंग स्थल से बाहर सड़क वाहन खड़े किए जाते हैं। इससे ट्रैफिक बाधित होता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button