62 वर्षों में सबसे गर्म रहा जनवरी, दक्षिण भारत में टूटा 121 साल का रिकॉर्ड

नई दिल्ली। भारत में जनवरी का महीना काफी गर्म रहा। भारतीय मौसम विभाग ने बताया कि देश में साल 2021 के जनवरी में रिकॉर्ड किए गए न्यूनतम तापमान ने पिछले 62 वर्षों के तापमान के रिकॉर्ड को ध्वस्त कर दिया है। यह महीना पिछले 62 वर्षों में सबसे गर्म रहा। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि विशेष रूप से देश का दक्षिणी हिस्सा ज्यादा गर्म रहा। 
दक्षिण भारत में यह महीना 121 वर्षों में सबसे गर्म रहा और तापमान 22।33 डिग्री सेल्सियस रहा। सन 1919 में 22.14 डिग्री सेल्सियस और 2020 में 21।93 डिग्री सेल्सियस था जो दूसरा और तीसरा सबसे गर्म महीना रहा। मध्य भारत में 1982 (14.92 डिग्री सेल्सियस) के बाद 38 वर्षों में सबसे गर्म रहा (14.82 डिग्री सेल्सियस) जबकि 1901 से 2021 के बीच 15.06 डिग्री सेल्सियस के साथ 1958 सबसे गर्म रहा।
हालांकि, आईएमडी के मुताबिक जनवरी में अधिकतम तापमान सामान्य से कम ही रहा। सन 1901 से 2021 के बीच के तापमान की जानकारी निकालने और उसका विश्लेषण करने से पता चलता है कि पूरे भारत का औसत न्यूनतम तापमान जनवरी 2021 में 14.78 डिग्री सेल्सियस रहा। विभाग के मुताबिक साल 1958 के जनवरी महीने में भी इसी तरह का न्यूनतम तापमान रहा था। 1919 के जनवरी में 15 डिग्री सेल्सियस तापमान मापा गया जो अभी तक का सबसे गर्म जनवरी रहा है।
भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा, 1958 के बाद 62 वर्षों में जनवरी 2021 सबसे गर्म रहा। बता दें कि शहर में 1 जनवरी को 1.1 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया था, जो पिछले 15 साल में इस महीने में सबसे कम तापमान था। आईएमडी के मुताबिक दिल्ली में जनवरी के महीने में 7 दिन शीतलहर चली, जो 2008 के बाद इस महीने में सर्वाधिक ऐसे दिन हैं। जब मैदानी भाग में न्यूनतम तापमान 4 डिग्री तक गिर जाता है, तो आईएमडी शीतलहर की घोषणा करता है। जब मैदानी क्षेत्रों में न्यूनतम तापमान 2 डिग्री या उससे भी नीचे चला जाता है तो वह भयंकर शीतलहर की स्थिति होती है। बता दें कि 2008 में जनवरी में शीतलहर वाले दिन 12 थे। वर्ष 2019 और 2020 में इस महीने में शीतलहर का केवल एक दिन रहा। वहीं, दिल्ली में जनवरी, 2013 में शीतलहर वाले 6 दिन थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button