हर जिले में उपलब्धियां बताने पहुंचे कांग्रेसी, कर्ज माफी और निवेश बड़ी उपलब्धि

भोपाल। [विशेष प्रतिनिधि] मध्यप्रदेश में कमलनाथ की सरकार ने आज 6 महीने का कार्यकाल पूरा कर लिया है। कांग्रेस पार्टी की ओर से पूरे प्रदेश के सभी जिला मुख्यालय पर पत्रकारवार्ता करके नाथ सरकार की उपलब्धियां बताई जा रही हैं। हालांकि कांग्रेस अपनी उपलब्धियों के साथ पूर्ववर्ती सरकार की आलोचना करके राजनैतिक हित भी साध रही है। वैसे 6 महीने में अपने वचन पत्र का बड़ा हिस्सा पूरा करने का दावा यह सरकार कर रही है। आम जनता को जो समझ में आ रहा है वह किसानों की कर्जमाफी का चरणबद्ध तरीका है। इसकी प्रसन्नता भी हो रही है और आलोचना भी।  साथ में 4,000 करोड़ रुपये के निवेश के प्रस्तावों की स्वीकृति देकर इस सरकार ने बड़ा धमाका किया है। अल्पमत को बहुमत में बदलकर कमलनाथ सरकार पहले तो लडख़ड़ा कर चल रही थी लेकिन लगता है अब उसके सामने कोई बड़ा खतरा नहीं है। सरकार अब लंबी उड़ान भर सकती है। 
विगत दिनों जाने-माने उद्योगपतियों के साथ मुख्यमंत्री कमलनाथ की बैठक का वांछित परिणाम निकलकर सामने आया। 4,000 करोड़ रुपये के निवेश प्रस्तावों को मंजूरी मिली। इसमें सबसे खास बात यह रही कि स्वीकृति के लिए फाईलें अधिकारियों की वक्रदृष्टि से गुजरती थीं वह सरलता से स्वीकृत होकर आ गई। कर्जमाफी को लेकर सरकार की आलोचना करने वालों के सामने कमलनाथ सरकार का वह विज्ञापन एक आईने के रूप में है जिसमें यह स्पष्ट कर दिया है कि कर्ज माफी  चरणबद्ध तरीके में आर्थिक पक्ष को देखते हुए की जा रही है। नाथ सरकार बिना दवाब में आए केवल फसल ऋण को ही माफ कर रही है। इससे बैंकों में बैचेनी हो सकती है। 6 महीने में सरकार ने केंद्र के साथ तालमेल करके अपनी लंबित योजनाओं को स्वीकृत कराने के साथ विकास कार्यों के लिए धन की मांग भी की है। इससे प्रदेश  में विकास का रोडमेप तैयार होगा। रोज सरकार गिराने की धमकियों के बीच नाथ सरकार बड़े ही संतुलन से चल रही है।
जनता ने प्रमाणित किया सरकार फेल : नरोत्तम
पूर्व मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने पत्रकारों से बात करते हुए कमलनाथ सरकार की कार्यप्रणाली की तीखी आलोचना की। उन्होंने आरोप लगाया कि जिस प्रकार कर्जमाफी करने में सरकार असफल हुई है यह विज्ञापनों से ही प्रमाणित हो गया। कमलनाथ सरकार ने अपने अध्यक्ष राहुल गांधी से झूठ बुलवाया। अभी तक एक भी दो लाख रुपये के कर्ज वाला किसान माफी पत्र लिए नहीं मिला। नरोत्तम मिश्रा ने यह भी कहा कि अभी तक 5-10 हजार के कर्ज वाले किसानों को ही माफी पत्र मिला है। उन्होंने कानून व्यवस्था की जर्जर हालत पर सरकार को घेरा। प्रदेश में महिलाओं की असुरक्षा और छोटी बच्चियों के साथ हुई रेप की घटनाओं से प्रदेश की बदनामी हुई है। अभी तक किसी भी युवक को बेरोजगारी भत्ता नहीं मिलने का आरोप भी नरोत्तम मिश्रा ने पत्रकारवार्ता मेें लगाया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button