हमीदिया-सुल्तानिया के मरीजों की नहीं हो रही जरूरी जांचें

► जांच किट खत्म होने को बताया जा रहा वजह
भोपाल। राजधानी के प्रमुख सरकारी अस्पताल हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल के मरीजों की कई जरूरी जांचें नहीं हो रही हैं। इससे मरीज अस्पताल के चक्कर लगाने को मजबूर है। वहीं कुछ मरीज स्वयं के खर्चे पर ये जांच बाहर से करवाने को विवश हो रहे है। मरीजों की माने तो करीब एक महीने से यहां कुल दस तरह की जांचें नहीं हो पा रही है। कोलेस्ट्राल, क्रेटनिन समेत 10 जांचें एक-एक कर बंद हो चुकी हैं। ऐसे में मरीजों कुछ जरूरी जांचें बाहर से कराना पड़ रहा है।
जांच किट खत्म होने की वजह से जांचें नहीं हो रही हैं। बजट नहीं होने की वजह से किट की खरीदी नहीं हो पा रही है। जांच किट खत्म होने पर सबसे पहले इमजरेंसी में आने वाले मरीजों की जांचें बंद की गई थीं। इसके बाद भी किट नहीं आईं तो ओपीडी में आने वाले मरीजों की जांचें बंद कर दी गई हैं।
सूत्रों की माने तो हमीदिया के साथ ही सुल्तानिया अस्पताल के मरीजों की जांचें भी हमीदिया की सेंट्रल पैथोलॉजी लैब में होती हैं। हर दिन करीब 300 मरीजों की 16 सौ जांचें होती हैं। एक दर्जन जांचें बंद होने की वजह से 300 से 400 जांचें नहीं हो पा रही हैं। निजी केन्द्रों में यह जांचें 100 से 450 रुपए तक में होती हैं। सूत्रों ने बताया कि किट खरीदी के लिए 25 लाख रुपए मिले हैं, लेकिन जरूरत के हिसाब से यह राशि काफी कम है। इन अस्पतालों में जो प्रमुख जांचें नहीं हो पा रही है उनमें एमाइलेज व लाइपेज-पैंक्रियाज की जांच, बिलरुबिन- लिवर की जांच, के्रटनिन-किडनी की जांच, सीपीके एमबी-हार्ट की जांच और लिपिड प्रोफाइल- कोलेस्ट्राल की जांचें शामिल है। जो गरीब मरीज निजी क्लीनिकों पर ये जांच नहीं करवा सकता, वह सरकारी अस्पतालों में जांच शुरु होने का इंतजार कर रहे हैं। देखना होगा कि आखिर अस्पताल प्रबंधन मरीजों के हित को ध्यान में रखते हुंए ये जरुरी किट कब तक उपलब्ध करवा रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button