स्मॉल फाइनेंस बैंक शुरू करने के प्लान में जुटा पेटीएम

नई दिल्ली। पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने स्मॉल फाइनेंस बैंक शुरू करने का प्लान बनाया है। मामले से जुड़े सूत्रों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वह इस साल मई-जून के करीब लाइसेंस के लिए आरबीआई के पास अप्लाई कर सकता है। दरअसल, तब तक पेटीएम पेमेंट्स बैंक के पांच साल पूरे हो जाएंगे। कोई पेमेंट्स बैंक तभी स्मॉल फाइनेंस बैंक के लिए अप्लाई कर सकता है, जब उसने पांच साल पूरे कर लिए हों।
पेटीएम पेमेंट्स बैंक के प्रमोटर विजय शेखर शर्मा हैं। सूत्रों ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर इस प्लान के बारे में जानकारी दी। पेटीएम ने लोन बिजनेस में एंट्री के लिए बड़ा प्लान तैयार किया है। सूत्र ने बताया कि एसएफबी का लाइसेंस मिल जाने के बाद पेटीएम पेमेंट्स बैंक पार्टनर्स के साथ लोन बिजनेस के बारे में बात करेगा। लाइसेंस के लिए अप्लाई करने का कोई मामला नहीं है। सूत्र ने बताया कि इस वजह से पेमेंट्स बैंक को स्मॉल फाइनेंस बैंक में बदलने में थोड़ा समय लग सकता है। यह समय एक साल तक हो सकता है। आरबीआई के नियम के अनुसार पेमेंट्स बैंक स्मॉल फाइनेंस बैंक के लिए अप्लाई कर सकता है।
नियम के मुताबिक, अगर कोई पेमेंट्स बैंक पांच साल पूरा कर लेता है तो वह स्मॉल फाइनेंस बैंक के लिए अप्लाई कर सकता है। हालांकि, अलग-अलग प्रमोटर ग्रुप के ज्वाइंट वेंचर को स्मॉल फाइनेंस बैंक शुरू करने की इजाजत नहीं मिलती है। पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने 23 मई, 2017 को ऑपरेशन शुरू किया था। यह इस साल मई-जून तक स्मॉल फाइनेंस बैंक के लाइसेंस के लिए अप्लाई करने के लिए एलिजिबल हो जाएगा। पेटीएम पेमेंट्स बैंक में विजय शेखर शर्मा की 51 फीसदी हिस्सेदारी है। वह इसके चेयरमैन हैं।
एनालिस्ट्स का कहना है कि पेटीएम पेमेंट्स बैंक खुद को स्मॉल फाइनेंस बैंक में बदल कर एक टिकाऊ बिजनेस मॉडल खड़ा कर सकता है। अभी पेमेंट्स बैंक को एक ग्राहक से 2 लाख रुपये तक का डिपॉजिट लेने की इजाजत है। लेकिन, इन्हें लोन देने की इजाजत नहीं है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button