सीबीआई मामला : सीजेआई बोले- सुप्रीम कोर्ट करेगा निगरानी, 2 हफ्ते में जांच पूरी करे सीवीसी

 आलोक वर्मा की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस भेजा
नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई में मचा घमासान अब देश की सबसे बड़ी अदालत के दर पर पहुंच गया है। छुट्टी पर भेजे गए सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा और एक एनजीओ द्वारा दाखिल याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई हुई।
सीबीआई मामले में की सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा है कि वह इस मामले को देखेंगे, उन्होंने सीवीसी से अपनी जांच अगले 2 हफ्ते में पूरी करने को कहा है, ये जांच सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज एके पटनायक की निगरानी में होगी। चीफ जस्टिस ने कहा कि देशहित में इस मामले को ज्यादा लंबा नहीं खींच सकते हैं। आलोक वर्मा की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस भेजा है। उन्होंने सरकार से पूछा है कि किस आधार पर आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजा गया है। इस मामले में अब 12 नवंबर को अगली सुनवाई होगी। सीजेआई ने सुनवाई के दौरान कहा कि इस स्थिति में बस इस मामले पर सुनवाई होगी कि ये प्रथम दृष्टया केस बनता है या नहीं। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि अंतरिम डायरेक्टर नागेश्वर राव की नियुक्ति पर चीफ जस्टिस ने कहा है कि वह कोई नीतिगत फैसला नहीं कर सकते हैं। वह सिर्फ रूटीन कामकाज ही देखेंगे। नागेश्वर राव ने 23 अक्टूबर से अभी तक जो भी फैसले लिए हैं, उन सभी को सील बंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट को सौंपा जाएगा। अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल और सालिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा है कि उन्हें इस मामले के लिए 3 हफ्ते का समय दिया जाए।
सीबीआई विवाद को लेकर कांग्रेस का देशभर में प्रदर्शन
सीबीआई में जारी विवाद अब मैदान में आ गया है। जहां एक तरफ सीबीआई चीफ आलोक वर्मा ने अपने खिलाफ हुई कार्रवाई के विरोद में सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है वहीं कांग्रेस ने मुद्दे को हाथोंहाथ ले लिया है। इस मुद्दे को भुनाने की कोशिश में कांग्रेस आज देशभर में स्थित सीबीआई मुख्यालयों पर प्रदर्शन करेगी। इसी कड़ी में दिल्ली स्थित मुख्यालय पर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। केवल दिल्ली नहीं बल्कि देश के अन्य राज्यों में भी कांग्रेस का प्रदर्शन हो रहा है। पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी दिल्ली में सीबीआई मुख्यालय पर धरना देंगे। वहीं, कांग्रेस के इस प्रदर्शन को टीएमसी का साथ भी मिल गया है। टीएमसी ने इस प्रदर्शन में कांग्रेस का साथ देने का एलान किया है।
जानें फैसले की अहम बातें
►    सीजेआई ने कहा कि सीबीआई के अंतरिम निदेशक नागेश्वर राव कोई नीतिगत फैसले नहीं लेंगे। उन्हें रूटीन काम करना होगा।
►    डायरेक्टर आलोक वर्मा के खिलाफ सीवीसी की जांच दो हफ्ते में खत्म करनी होगी।
►    नागेश्वर राव की ओर से लिए गए सभी फैसले बंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट को सौंपे जाएं।
►    सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज एके पटनायक सीवीसी जांच की निगरानी करेंगे।
►    सीजेआई ने कहा, देश के हितों को देखते हुए सीबीआई मामले को हम ज्यादा दिन तक नहीं खींच सकते।
►    अगली सुनवाई 12 नवंबर को होगी। जांच की रिपोर्ट देखने के बाद आगे कोई फैसला लिया जाएगा।
►    राकेश अस्थाना के मामले में सीजेआई ने कहा कि आप अलग से याचिका दायर करें।
►    अस्थाना ने भी याचिका डाली। सुप्रीम कोर्ट इस पर बाद में करेगा सुनवाई।
►    वर्मा और प्रशांत भूषण की याचिका पर सीवीसी और केंद्र सरकार को नोटिस जारी।
►    सीजेआई ने कहा, जांच की निगरानी करेंगे। हम यह देखेंगे कि एजेंसी की ओर से कौन-कौन से अंतरिम आदेश पारित किए गए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button