रेलवे के किचन में लगाए कैमरे, यात्री देख सकेंगे साफ-सफाई का कितना रखा जा रहा है ध्यान

भोपाल।  इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कार्पोरेशन (आईआरसीटीसी) ने देश के चुनिंदा स्टेशनों पर किचन में कैमरे लगवा दिए है ताकि वहां बन रहे खाने की गुणवत्ता को यात्रीगण परख सके। कैमरे के माध्यम से यात्री किचन का लाइव प्रसारण देख सकेंगे। इन चुनिंदा स्टेशनों में भोपाल भोपाल रेलवे स्टेशन का किचन भी शामिल हो गया है।
यात्री खाना बनाने की प्रक्रिया को लाइव देख सकेंगे। भोपाल स्टेशन के प्लेटफार्म-1 पर स्थित किचन में कैमरे लगा दिए हैं। प्राथमिक तौर पर प्रसारण भी चालू कर दिया है लेकिन वास्तविक प्रसारण 1 जून से किया जाएगा। यह प्रसारण चौबीस घंटे होगा, यात्री कभी भी देख सकेंगे। अभी तक झांसी समेत चुनिंदा स्टेशनों को भी लाइव प्रसारण के दायरे में लाया गया है। आईआरसीटीसी ने स्ट्रीम ऑन वेब पोर्टल की मदद ली है। इस पोर्टल पर आईआरसीटीसी ने किचन लाइव स्ट्रीम ऑप्शन दिया है। इस पर चुनिंदा स्टेशन को लाइव कनेक्विीटी से जोड़ा है। इसमें भोपाल स्टेशन भी शामिल है। हालांकि अभी काम चल रहा है इसलिए प्रसारण चालू नहीं हो सका है। इसके अलावा यात्री रेल दृष्टि पोर्टल पर जाकर आईआरसीटीसी किचन का ऑप्शन सलेक्ट कर सकते हैं। यहां पर झांसी समेत 18 रेलवे स्टेशनों को लाइव सेवा के लिए चुना गया है। इन स्टेशनों पर मौजूद वेज और नॉनवेज किचनों को लाइव प्रसारण के दायरे में लाया गया है। जून से भोपाल स्टेशन का नाम भी जुड़ जाएगा।रेलवे के खाने को लेकर हमेशा आशंका रहती है कि खाने में किसी तरह की गड़बड़ी तो नहीं। इन आशंकाओं को इसलिए भी बल मिलता रहा है, क्योंकि कई बार इटारसी स्टेशन समेत ट्रेनों में फूड पॉइजनिंग की घटनाएं हो चुकी हैं। ऐसी घटनाओं से जहां यात्रियों की फजीहत होती हैं वहीं रेलवे की छवि भी खराब हुई है। इसे सुधारने के लिए आईआरसीटीसी के किचन को लाइव प्रसारण के दायरे में लाया जा रहा है। यह सुविधा इटारसी स्टेशन पर भी शुरू होने वाली है। 
जल्दी और गुणवत्ता युक्त खाना तैयार करने किचन के लिए आधुनिक उपकरण जैसे रोटी मैकिंग मशीन, सब्जी काटने के लिए वेज कटिंग मशीन व चावल पकाने के लिए बायलर आदि दिए गए हैं। इस बारे में भोपाल आईआरसीटीसी के कैटरिंग डीजीएम नवीन अरोरा का कहना है कि भोपाल स्टेशन के किचन का लाइव प्रसारण शुरू करवा रहे हैं। इस पर काम चल रहा है। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button