मुसलाधार बारिश से जलमग्न हुए कई क्षेत्र – नदी नाले उफान पर

मण्डला। मंगलवार की रात में शुरू हुआ जोरदार बारिश का सिलसिला बुधवार की सुबह तक जारी रहा, लगातार हुई इस बारिया से नदी नाले उफान पर आ गए। बढ़े जलस्तर के चलते जिले के कई गांवों का संपर्क जिला मुख्यालय से टूट गया। मंडला घुघरी मार्ग पर गुरबनी नाला उफान पर रहा वहीं मंडला- डिंडौरी मार्ग में आमानाला, बकछेरा नाला ओर कापा नाला में पानी पुल के उपर से बह रहा था। जिसके चलते आवागमन प्रभावित हुआ। वहीं शहर में अनेक निचले क्षेत्र जलमग्न हो गए। खैरी स्थित तालाब ओवर फ्लो हो जाने से प्राइमरी स्कूल का मैदान लबालब हो गया। साथ ही खैरी गांव में अनेक घरों में पानी घुस गया। 12 घंटे में छह इंच बारिश हो गई। नदी नालों का जलस्तर बढऩे से कई मार्ग बंद हो गए। बारिश के बीच ही घंसौर मार्ग में पेड़ गिरने से जाम लग गया। वहीं मंडला शहर में रात में रूक रूककर और बुधवार सुबह हुई तीन घंटे की अनवरत बारिश से शहर के कई निचले इलाकों में पानी भर गया। इस दौरान लोगों को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ा। बारिश थमने के बाद आसमान में बादल छाए रहे और शाम पांच बजे के लगभग भगवान सूर्य देव के दर्शन भी कई दिनों के बाद लोगों को हुए। हाउसिंग बोर्ड कालोनी में सुबह 6 बजे से हुई लगातार बारिश के बाद पानी भरने लगा और एक समय तो यह स्थिति बनी कि सड़कों में नाव चलने लायक पानी हो गया। जैसे तैसे कर के लोगों ने गृहस्थी को कहीं पलंग में रखकर तो कहीं दूसरे स्थान में शिफ्ट किया। यही हाल बस स्टैंड के पीछे स्थित रानी अवंती बाई वार्ड स्थित कलेक्ट्रेट कालोनी के रहे। मंडला से लगे ग्रामीण क्षेत्रों राजीव कालोनी के बर्राटोला इलाके, रिलायंस पेट्रोल पंप के पीछे स्थित मार्गो में पानी भर जाने से लोगों की आवाजाही बाधित हो गई। जिला पंचायत के नजदीक कन्या छात्रावास में पानी प्रवेश कर गया। भूतल के कमरों में पानी भर जाने से छात्राओं को प्रथम तल में जाकर शरण लेना पड़ा। इसी तरह बड़ी खैरी स्थित प्राइमरी,मिडिल परिसर में पानी भर जाने से स्कूल की व्वस्थाएं लडख़ड़ा गई। बम्हनी बंजर क्षेत्र में भारी बारिश के बीच नाला में बाढ़ आ गई। इसके किनारे के रहने वाले मकान में पानी तेजी से भरने लगा। प्रशासन ने तत्काल करीब 12 परिवारों को वहां से शिफ्ट कराया।

जिले में अब तक 959.4 मिमी. औसत वर्षा दर्ज
जिले में इस वर्ष 29 अगस्त तक 959.4 मिमी. औसत वर्षा दर्ज की गई है जबकि इसी अवधि तक गत वर्ष 615.2 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई थी। इस प्रकार गत् वर्ष की तुलना में इस वर्ष 344.2 मिलीमीटर अधिक वर्षा दर्ज की गई है।     अधीक्षक भू अभिलेख से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस वर्ष मण्डला तहसील में 896.0 मिमी., नैनपुर में 1063.4, बिछिया में 1124.1, निवास में 1085.9, घुघरी में 671.7 तथा नारायणगंज में 922.2 कुल वर्षा दर्ज की गई।

वर्षा की स्थिति पर नजर बनाए रखें अधिकारी, मुख्यालय नहीं छोडऩे के निर्देश
अपर कलेक्टर ने जिले में भारी बारिश की चेतावनी के मद्देनजर सभी एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार, सीएमओ नगर पालिका, सीईओ जनपद तथा राजस्व अमले के अधिकारियों को वर्षा की स्थिति पर सतत् नजर रखने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा है कि कोई भी अधिकारी अपना मुख्यालय न छोड़े तथा किसी आकस्मिक घटना की सूचना तत्काल जिला प्रशासन को दें। अपर कलेक्टर ने निर्देश में कहा कि बाढ़ की स्थिति में सभी जरूरी इंतजाम पुख्ता कर लिये जायें। उन्होंने कहा कि घरों में पानी भरने की स्थिति में लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुँचाया जाये तथा उनकी चिकित्सा और खाने की उचित व्यवस्था सुनिश्चित किया जाये। लालीपुर चीरी में होमगार्ड तथा स्थानीय प्रशासन की मदद् से बाढ़ में फंसे एक व्यक्ति को बचाया गया साथ ही बम्हनी में मकानों में पानी भरने पर लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुँचाया गया। इन लोगों की मदद् के लिए विधायक, मुख्य नगर पालिका अधिकारी, तहसीलदार तथा अधिकारी उपस्थित थे। मदद् के दौरान इनके भोजन की व्यवस्था भी की गई। अपर कलेक्टर ने कहा कि जिला कलेक्टर के निर्देशानुसार सभी अधिकारी  अपने क्षेत्र के बाढ़ पीडि़त लोगों का तत्काल सर्वे कराने के निर्देश जारी कर दिये गये हैं। उन्होंने कहा कि शासन के नियमानुसार पीडि़त लोगों को अनुदान स्वीकृत करने के लिए आवश्यक कार्यवाही प्रारंभ कर दिया जाये और शीघ्र अतिशीघ्र मुआवजा, क्षतिपूर्ति राशि स्वीकृत की जाये। अपर कलेक्टर एवं जिले की परिवहन व्यवस्था के बारे में बताया कि जिला मुख्यालय तक पहुँचने वाले सभी प्रमुख मार्ग पूर्णंत: प्रारंभ हैं। यातायात की स्थिति सामान्य है। उन्होंने  एमपीआरडीसी एवं जीडीसीएल को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि निर्माणाधीन पुलिया, डायवर्सन तथा सड़कों को शीघ्र पूरा कर लिया जाये। जहाँ सड़क खराब स्थिति में है ऐसे मार्ग को सुगम बनाने पर्याप्त उपाय किये जायें। अन्यथा सख्त कार्यवाही की जायेगी। कल रात भारी बारिश के कारण मण्डला-घंसौर मार्ग कुछ देर के लिए बाधित हो गया था। जिसे पीडब्ल्यूडी द्वारा फिर से बहाल कर दिया गया। डिण्डौरी बायपास पर पानी भरने की स्थिति में सुरक्षा के तौर पर पुलिस व्यवस्था कर दी गई है। बारिश कम होने के कारण छोटे पुलियों के ऊपर से बहने वाला पानी का स्तर धीरे-धीरे कम होने लगा है। अन्य जिले के साथ-साथ मण्डला में भी आगामी दिनों में भारी बारिश की संभावना है ऐसे में जिला प्रशासन में जनता से अपील की है कि पुल पर पानी होने पर उसे पार न करें। कोई भी परेशानी आने पर संबंधित पुलिस चौंकी, थाना या जनपद कार्यालय को सूचित करें। गंभीर परेशानी में एकदूसरे का सहयोग करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button