भाजपा में खंडवा के दावेदारों से एव-टू-वन चर्चा

भोपाल। विशेष प्रतिनिधि। आज से खंडवा लोकसभा और शेष 3 विधानसभा उपचुनाव के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने का सिलसिला शुरू हो सकता है। अधिसूचना आज जारी हो गई। तब उम्मीदवार कौन होगा इसकी तैयारी भी अन्तिम चरण में है। भाजपा के पास खंडवा से कई नाम हैं इसलिए नाम को अन्तिम रूप देने के लिए क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों और पदाधिकारियों से प्रदेश कार्यालय में वन-टू-वन चर्चा की जा रही है। श्रीमती अर्चना चिटनिस और दिवंगत सांसद नंद कुमार सिंह चौहान के पुत्र हर्ष सिंह से भी बातचीत हुई है। अन्य पदाधिकारियों और जनप्रतिनिधियों से भी चर्चा हो रही है।

उपचुनाव के लिए प्रत्याशियों नामों को अन्तिम रूप दिया जा रहा है। खंडवा से दो नाम ही विचार के लिए बचे हैं। सहानुभूति वोटों के लिए हर्ष सिंह और अनुभवी नेता के रूप में श्रीमती अर्चना चिटनिस के नाम अन्तिम निर्णय के लिए हैं। आज शाम तक चुनाव समिति के लिए नाम तय कर लिए जाएंगे ऐसी सूत्रों के द्वारा जानकारी दी गई है। कांग्रेस यहां से अरूण सिंह को मैदान में उतार सकती है। हालांकि अरूण यादव ने दिल्ली में कहा है कि जिसे भी पार्टी लड़ाएगी हम काम करेंगे।

सूत्रों का कहना है कि जोबट में भाजपा माधो सिंह डाबर पर दाव लगा सकती है। अन्य विकल्प खुले हैं लेकिन अब निर्णय लेने का समय है। रैगांव से भाजपा दिवंगत विधायक जुगल किशोर बागड़ी के पुत्र पुष्पराज बागड़ी को फिर से मैदान में उतार सकती है जबकि वे एक बार चुनाव हार चुके हैं। रैगांव में कांग्रेस किसी नये चेहरे पर दांव लगाएगी क्योंकि पार्टी के पास प्रभावशाली नाम नहीं है। पृथ्वीपुर में पार्टी सपा से चुनाव लड़ चुके शिशुपाल यादव को टिकिट देने का मन बना रही है। इसके अलावा गणेशी लाल नायक के नाम की चर्चा भी है। कांगे्रस यहां से पूर्व विधायक और लोकप्रिय नेता बिजेन्द्र सिंह राठौर के पुत्र को ही प्रत्याशी बनाने जा रही है। यह चर्चा भी उठती है कि भाजपा श्री राठौर के पुत्र को भी पार्टी में लाकर मैदान जीतने की मंशा रखती है।

जो भी हो भाजपा आज अन्तिम निर्णय तक पहुंचने की स्थिति में दिखाई दे रही है। संगठन प्रमुख वीडी शर्मा के साथ संगठन महामंत्री सुहास भगत और सह संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा भी दावेदारों से बात कर रहे हैं। इससे पार्टी में यह बात भी समाप्त हो रही है कि निर्णय प्रक्रिया समाप्त होती जा रही है। केन्द्रीय मंत्री तोमर ने पिछली बार ऐसा कहा था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button