पबजी की आदत इस प्रकार दूर होगी

आजकल ऑनलाइन गेम पबजी की आदत बच्चों के लिए जानलेवा साबित हो रही है। इसकी आदत इतनी घातक है कि ये आपकी जान भी ले सकता है। पिछले दिनों एक मामला सामने आया, जिसमें एक बच्चा लगातार छह घंटे तक पबजी खेलता रहा, इसके बाद उसे हार्ट अटैक आया और उसकी मौत हो गई। ऐसे और भी मामले है, जहां घातक परिणाम देखे गए हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि अभिभावक अपने बच्चों की इस खतरनाक आदत को पहचानकर उसे कैसे बचा सकते हैं। 
ऐसे पहचानें पबजी की लत
यदि बच्चे की दिनचर्या में बदलाव नजर आए। उसका पूरा कामकाज पबजी के इर्द-गिर्द ही दिखाई देने लगे तो समझिए वह इस खेल की गिरफ्त में जा रहा है। उसका स्वभाव आक्रामक और गुस्सैल हो सकता है। पबजी खेलने से रोकने पर वह हिंसक हो उठता है। इस खेल की लत में आया बच्चा आमतौर पर गुमसुम दिखाई देता है। उसकी याददाश्त में कमी आना, बात बिगड़ने के संकेत हैं।

मनोचिकित्सकों ने इसकी आदत दूर करने ये उपाये बताये हैं। 
सबसे पहले पहचानने की कोशिश करें कि बच्चे को वाकई लत है या नहीं? यदि बच्चा लगातार 4-5 घंटे खेल रहा है, इससे उसकी बाकी चीजें प्रभावित हो रही हैं, उसके व्यवहार में अंतर आ रहा है, तो इसे लत कहा जा सकता है। यदि वह सामान्य खेल की तरह इसे खेल रहा है, तो ये लत नहीं है। यदि बच्चे को पबजी की लत है, तो आपको उसे सीधे खेलने से इनकार करने की बजाय पबजी से बेहतर और मनोरंजक खेल विकल्प देना होगा। ये खेल फुटबॉल, क्रिकेट, शतरंज, वर्ग पहेली आदि हो सकते हैं।
यदि आपको लगता है कि उसकी लत सामान्य नहीं है, यह आगे जाकर घातक हो सकती है, तो उसे तुरंत किसी अच्छे मनोचिकित्सक को दिखाएं। घर में लगे वाई-फाई की स्पीड लो रखें। ऐसा होने से उसके इंटरनेट कनेक्शन की स्पीड में रुकावट आएगी और खेल में परेशानी होगी। इस तरह उसे रोका जा सकता है। दूसरे ऑनलाइन खेलों के बारे में बताएं। पहले खुद देखें कि वे पबजी जैसे ही मनोरंजक हैं और किसी तरह की हानि से वाकई मुक्त हैं या नहीं। पबजी यानी प्लेयर-अननोन्स बेटल ग्राउंड्स एक ऑनलाइन गेम है, इसमें 100 खिलाड़ी एक विमान से एक बड़े टापू पर छलांग लगाते हैं। वहां वे इधर-उधर बिखरे हथियार और औजार उठाते हैं। इनमें लंबी दूरी पर देख सकने वाले लैंस लगी मशीन गन, हेल्थ किट, इलाज का सामान आदि जैसी चीजें होती हैं। जीप जैसे वाहन भी पा सकते हैं। सभी खिलाड़ी हथियार खोजकर एक-दूसरे को मारने की कोशिश करते हैं। खिलाड़ी 4 लोगों का समूह भी बना सकते है। खिलाड़ी का अंतिम लक्ष्य सब को मारकर खुद जिंदा बचे रहना है।
ये समस्याएं हो सकती हैं
नींद खराब होना, नींद न आना।
हमेशा ऊर्जा की कमी बनी रहना। किसी काम में मन न लगना।
सिरदर्द और माइग्रेन की समस्या हो सकती।
दिमाग असली और काल्पनिक में भ्रमित हो सकता है।
आई साइट में कमजोरी।
अन्य दिमागी समस्याएं।
गर्दन या मसल्स में सूजन आना। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button