ट्रेक्टर चलाकर कांग्रेस की फसल नष्ट करते राहुल : डॉ.मिश्रा

भोपाल। कृषि कानूनों का विरोध करने से  पहले अपना चुनावी घोषणा पत्र पढ़ ले कांग्रेस के युवराज। कृषि कानूनों के विरोध में ट्रेक्टर चलाकर संसद  पहुचे पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर मध्यप्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने तीखा कटाक्ष किया है। डॉ. मिश्रा ने कहा है कि राहुल जी लोकसभा चुनाव के  कांग्रेस घोषणा पत्र को पहले पढ़ ले जिससे उन्हें पता चल जाए कि कृषि और किसानों की बेहतरी के लिए कांग्रेस ने जो वादे किए थे उसी वायदों  को प्रधानमंत्री श्री मोदी ने यह तीनों कृषि बिल लाकर पूरा किया है। आज कांग्रेस के युवराज अपने ही वायदों का विरोध में ट्रेक्टर चलाकर पार्टी की बची खुची फसल भी नष्ट कर रहे है।

डॉ. मिश्रा ने कहा कि मोदी सरकार द्वारा लाए गए तीनो कृषि बिल किसान हितैषी है। इन बिलो से किसानों को बहुत लाभ होगा और कृषि लाभ का धंधा बन सकेगी। आज इन बिलो का विरोध कर रही कांग्रेस व उनके नेता राहुल गांधी भी जानते है कि कृषि बिल किसानों के लिए कितने जरूरी है । आज जो कृषि बिलो में प्रावधान किए गए है वही सब करने के वायदे कांग्रेस ने लोकसभा  चुनाव में अपने घोषणा पत्र में किये थे। राहुल को तो प्रधानमंत्री का शुक्रगुजार होना चाहिए जो उन्होंने किसान हित मे उनके वायदे पूरे किए।

डॉ. मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी और कांग्रेस अगर अपना चुनावी घोषणा पत्र ही सही से पढ़ लेती तो वह बिलो का विरोध की नाटक-नौटंकी नही करती। साल 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने भी अपने घोषणापत्र में एपीएमसी अधिनियम को खत्म करने और कृषि उत्पादों को प्रतिबंधों से मुक्त करने की बात कही थी।

कांग्रेस ने चुनावी घोषणा पत्र के 11वें प्वाइंट में कहा था- कांग्रेस कृषि उपज मंडी समितियों के अधिनियम में संशोधन करेगी, जिससे कि कृषि उपज के निर्यात और अंतरराज्यीय व्यापार में लगे सभी प्रतिबंध समाप्त हो जाएंगे।
12वें प्वाइंट में कहा गया- हम बड़े गांवों और छोटे कस्बों में पर्याप्त बुनियादी ढांचे के साथ में किसान बाजार की स्थापना करेंगे, जहां पर किसान बिना किसी प्रतिबंध के अपनी उपज बेच सके।

21वें प्वाइंट में कहा गया था कि आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 को बदलकर आज की जरूरतों और संदर्भों के हिसाब से नया कानून बनाएंगे जो विशेष आपात परिस्थितियों में ही लागू किया जा सके।

गृह मंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने जो वादे चुनावी घोषणा पत्र में किये थे वह सब कृषि बिल में समाहित है। उसके बाद आज  राहुल गांधी कृषि बिलो के विरोध में संसद तक ट्रेक्टर चला कर विरोध की नाटक नोटंकी कर रहे है। यह तो पूरे देश को पता है कि राहुल गांधी को भूलने की आदत है लेकिम यह पहली बार पता चला है कि वह अपनी ही पार्टी का चुनावी घोषणा पत्र भी नही पढ़ते है।यही कारण है कि देश आज उनकी बातों को गंभीरता से नही लेता है। राहुल जी को समझना चाहिए कि देश की जनता जागरूक व समझदार है वह विरोध और नाटक-नौटंकी के फर्क को अच्छे से जानती समझती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button