जानलेवा हमला : घायल किन्नर ने पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप

भोपाल। टीटी नगर थाना क्षेत्र में विगत 16 मई को दशहरा मैदान, अर्चना पैथोलॉजी के पास दिनदहाड़े किन्नर काजल और मुस्कान मिर्जा ने तलवार से देवी सिंह किन्नर और मिलि बाई पर हमला कर दिया था। दोपहर करीब ढाई बजे हुए हमले के बाद गंभीर रूप से घायल मिलीबाई और देवी सिंह को हमीदिया अस्पताल 108 एंबुलेंस से भर्ती कराया गया था। वहां मिलीबाई को पीट, सिर और पेट में गंभीर चोट आई थी। शरीर में उसे दो सौ टांके लगाए थे। 
सूचना के बाद थाने से अस्पताल पहुंचे एएसआई एसके पांडे ने शरीर पर घांव देखे थे और बयान दर्ज कराए। गंभीर चोट होने के बाद भी पुलिस ने धारा, 294, 341, 324, 327, 506, 34 के तहत मुकदमा दर्ज किया था। जब डॉक्टरों की रिपोर्ट आई तो पता चला कि मिली की हालत नाजुक है और उसे शरीर में चार जगह तलवार के गहरे निशान है तो पुलिस ने धारा बढ़ाते हुए उसे हत्या के प्रयास में तब्दील किया था। फरियादी देवी सिंह और मिलीबाई का कहना है कि काजल ठाकुर और मुस्कान मिर्जा द्वारा हम पर जान लेने की गरज से हमला किया था। किन्नर उक्त मामले में आज एसपी साउथ संपत उपाध्याय को शिकायती आवेदन सौंप सकते हैं। 
पुलिस पर संरक्षण देने के आरोप
देवी सिंह किन्नर ने बताया कि आरोपी काजल ठाकुर आदतन है उस पर भोपाल के कुछ थानों में विभिन्न मामले दर्ज है। काजल के पास पैसा भी काफी सारा है। वह पैसों की दम पर सब कुछ कर सकती है। देवी सिंह ने बताया कि हमला करने के बाद काजल द्वारा लगातार घर के सामने युवकों को पहुंचाकर धमकियां दी जा रही है। बदमाश घर के सामने आते हैं और पथराव करके चले जाते हैं। गालियां देते हैं कि इस बार बच गए। अगले हमले के लिए तैयार रहना अगली बार जान ही जाएगी। वे चिल्ला कर कहते हैं कि अपना केस वापस ले लो नहीं तो जान से जाओंगे। 
छुरी से हमला बताती रही पुलिस
देवी सिंह और मिलि मंगलवारा में ही रहते हैं। आरोपी भी मंगलवारा में रहते हैं। देवी सिंह ने बताया कि पुलिस ने मीडिया में तोड़ मरोड़कर घटनाक्रम बताया था। देवी सिंह का कहना है कि उसका घर एमएलए क्वार्टर के पास जवाहर चौक पर है। घटना के दिन वह मिलि बाई के साथ एक्टिवा से खरीदारी करने न्यू मार्केट जा रही थी। तभी रास्ते में काजल ठाकुर और मुस्कान मिर्जा ने उसे रोक लिया था। वह कह रहे थे कि पांच हजार रुपए दे तभी जाने देंगे। इस दौरान अज्ञात हमलवारों ने  मिली पर तलवान से हमला कर दिया था। करीब एक फीट लंबा घांव मिली के पीट पर था। इसके अलवा सिर और जांघ समेत पेट में भी गहरे घांव थे। देवी सिंह का कहना है कि पूरे मामले में पुलिस हम पर हुए आत्मघाती हमले को वर्चस्व की लड़ाई बता रही है। पुलिस ने मीडिया को बताया था कि मामूली चोट आई है और छुरी से हमला किया है। 
गिरफ्तारी से पहले कराए हस्ताक्षर 
देवी सिंह ने बताया कि उसका मंगलवारा में भी घर है। तीन दिन पहले पुलिस आरोपी काजल ठाकुर और मुस्कान के घर पहुंची थी। वहां दोनों पुलिस को मिल गए थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार नहीं किया, बल्कि उनसे की तरह बात करते हुए हमारी हंसी उड़ाते रहे। दूसरे दिन काजल और मुस्कान खुद थाने पहुंचे थे। वहां पुलिस ने उन्हें वीआईपी ट्रीटमेंट दिया और कोर्ट में पेश कर दिया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button