कोलार में 10 दिन का लॉक डाउन

भोपाल (विशेष प्रतिनिधि)। राजधानी भोपाल के कोलार उपनगर में संक्रमितों की संख्या को देखते हुए कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। जिला कलेक्टर अविनाश लवानिया ने क्षेत्र का भ्रमण करने के बाद पाया कि यहां बिना लॉकडाउन के व्यवस्थाएं नियंत्रित नहीं हो सकती। कलेक्टर ने आज आदेश जारी करके 9 अप्रैल को शाम 6 बजे से 19 अप्रैल तक का लॉकडाउन प्रस्तावित किया है। कोलार के 4 वार्ड 80 से 84 तक तथा वार्ड 52 और 53 को मिलाकर कंटेनमेंट एरिया बनाया गया है। जहां अब 10 दिन तक संपूर्ण लाख डाउन रहेगा।

भोपाल के कलेक्टर अविनाश लवानिया ने पुलिस डीआईजी इरशाद वली के साथ कोलार क्षेत्र का भ्रमण किया। उन्होंने स्थितियों को देखा और अन्य प्रशासन के अधिकारियों ने सभी बातों पर सलाह की। इसके बाद कलेक्टर लवानिया ने आदेश जारी करके कोलार क्षेत्र में 10 दिन का लाकडाउन लगाने का निर्णय सुना दिया। लगभग ढ़ाई लाख आबादी इससे प्रभावित होगी। यह भोपाल नगर निगम आबादी का 10 प्रतिशत है। आदेश में ही साफ किया गया है कि क्षेत्र की निवासरत आबादी को दैनिक जरूरतों की आपूर्ति नगर निगम के वाहनों से की जायेगी। इसमें दूध, किराना और सब्जियां शामिल हैं। इसके अलावा आनलाइन मांग की पूर्ति की भी छूट दी गई है। व्यक्तियों को अपने घर से निकलने की अनुमति नहीं रहेगी। आवश्यक परिस्थितियों और अपरिहार्य कारणों से बाहर निकलने की पूर्व अनुमति लेना होगी। जो क्षेत्र के अनुविभागीय दंडाधिकारी द्वारा जाारी की जायेगी।

 आदेश में साफ किया गया है कि कोलार पुलिया वर बैरिकेटिंग की जायेगी। बसंल अस्पताल के पास शिव मंदिर हो या कोलार में प्रवेश के अन्य मार्ग सभी जगहों को बंद करके पुलिस की तैनाती की जायेगी। कलेक्टर महोदय ने बताया है कि कोलार शहर का सबसे बड़ा हॉटस्पॉट बन गया था जिसमें 18 सौ लोग संक्रमित हैं। हालांकि आज शाम को क्राइसेस मेनेजमेंट ग्रुप की बैठक बुलाई गई है। प्रधानमंत्री शाम को देश भर के मुख्यमंत्रियों की बैठक लेकर कोरोना की भयावह स्थिति के लिए अपना आदेश सुनाने जा रहे हैं। कोलार को कन्टेंटमेंट क्षेत्र घोषित करके लाकडाउन करना संदेश है। कल के बाद शहर के अन्य क्षेत्रों में भी यही स्थिति बन सकती है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जब लोगों से सहयोग की अपील कर रहे थे तब यह समझा जा सकता था कि कोई बड़ा और कठोर निर्णय लिया जाने वाला है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button