कोरोना नियंत्रण में सेना की मदद लेगा मध्य प्रदेश

भोपाल ( विशेष प्रतिनिधि)। सोमवार को दिनभर की कसरत के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आम जनमानस के जीवन को बचाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से बात करने के बाद यह तय हुआ है कि मध्यप्रदेश में कोरोना नियंत्रण के लिए सेना का सहयोग लिया जाएगा। आज आर्मी के अधिकारियों ने मुख्यमंत्री से मुलाकात भी की है। सीएम को यह बताया गया कि सेना अपने क्षेत्र के आसपास 350   बिस्तरों के अस्पताल की व्यवस्था करेगी। गरीब व्यक्तियों की भोजन व्यवस्था को सुचारू बनाए रखने के लिए 3 महीने का राशन एक साथ उपलब्ध कराने के निर्देश भी जारी किए गए हैं। बैठक के बाद यह दावा किया गया है कि ऑक्सीजन की उपलब्धता, रेमडेसीविर इंजेक्शन की उपलब्धता और टीकाकरण के साथ बिस्तर उपलब्ध हो इसकी निरंतर मॉनिटरिंग की जा रही है।सभी व्यवस्थाएं नियंत्रण में है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से चर्चा करके उन्हें मध्य प्रदेश की स्थिति के बारे में अवगत कराया। ऑक्सीजन की बढ़ रही निरंतर खपत को ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री से व्यवस्था में सहयोग का आग्रह किया गया। शिवराज ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से बात की और संक्रमण नियंत्रण के लिए सेना का सहयोग मिले ऐसा आग्रह किया गया। रक्षा मंत्री ने सेना का समुचित सहयोग मिलेगा ऐसा आश्वासन दिया गया। आर्मी के अधिकारियों ने दोपहर में मुख्यमंत्री से मुलाकात की और यह आश्वासन दिया कि भोपाल में 150, जबलपुर में 100, सागर में 40 और ग्वालियर में 40 बेड की व्यवस्था सेना की ओर से की जाएगी। संक्रमण बढ़ने की स्थिति में सेना संक्रमित मरीजों की इलाज व्यवस्था भी करेगी। सेना ऑक्सीजन की जरूरत पड़ने पर उपलब्धता कराएगी।

मुख्यमंत्री ने यह आश्वासन दिया है कि बड़े महानगरों में स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से 2000 बेड के अस्पताल खोले जाएंगे। राधा स्वामी सत्संग व्यास द्वारा 2000 बेड के की व्यवस्था के साथ अपना स्थान उपलब्ध कराए जाने की मुख्यमंत्री ने प्रशंसा की। यह भी बताया कि यहां 6000 बेड की व्यवस्था की जा रही है। इसी प्रकार अन्य स्वयंसेवी संस्थाएं भी महानगरों में व्यवस्था कर रही है। सीएम ने कहा कि कोरोना की चैन तोड़ना हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकता है। जनता कर्फ्यू 30 अप्रैल तक लगा रहे जिससे यह चेन ब्रेक हो जाएगी। उन्होंने कहा कि गांव को सुरक्षित रखना सरकार की प्राथमिकता है। जिन कस्बों में संक्रमण की स्थिति बन रही है उसे कंटेनमेंट जोन बनाकर बाकी क्षेत्रों को सुरक्षित किया जाएगा। संक्रमण गांव तक न पहुंचे इसके लिए सांसद विधायक और प्रशासनिक अधिकारी मिलकर काम करें। टेस्टिंग पर प्रशासन का विशेष जोर रहे जिससे संक्रमण आगे न फैल पाएं।

गरीबों की भोजन व्यवस्था की चिंता करते हुए मुख्यमंत्री ने आदेश दिए हैं कि राशन कार्ड से 3 महीने का राशन एडवांस में दिया जाए। जिससे गरीब व्यक्ति के भोजन का संकट उत्पन्न नहीं होगा। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कई राज्यों में हमारे वाहन रुक रहे हैं। जिससे जीवन उपयोगी दवाएं और ऑक्सीजन समय पर नहीं पहुंच पा रही है। 3 राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात करके व्यवस्था सुधारने का प्रयास हुआ है। काढ़ा वितरण की व्यवस्था फिर से की जा रही है और दो करोड़ परिवारों को यह पैकेट उपलब्ध कराए जाएंगे। उन्होंने मार्मिक अपील करते हुए कहा कि भारत मां अपने दूध की लाज रखने की अपील कर रही है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश में 113 कोविड केयर सेंटर है, जहां 6708 बिस्तर है। अब प्रदेश में 42636 बिस्तर हो गए हैं 1.16 लाख वायल आ चुके हैं। कल 20 हजार और आएंगे 23 तारीख को 30 हजार वायल उपलब्ध हो जाएंगे। 1 लाख इंजेक्शन का कार्य आदेश दे दिया गया है। प्रदेश में 374 मेट्रिक टन ऑक्सीजन की खपत है जबकि 390 मेट्रिक टन की उपलब्धता है। भारत सरकार के सहयोग से 8 एयर कंसेंट्रेटर यूनिट स्थापित किए जा रहे हैं। जिसमें चार का कार्य प्रारंभ हो गया है। 37 जिलों में 37 नए पीएसए शुरू हो रहे हैं। प्रदेश में अभी तक 73 लाख 78 हजार लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button