कोरोना का जोर कोलार आज शाम 6 बजे से लॉक

तीन दिन तक पूरा भोपाल बंद 
भोपाल। विशेष प्रतिनिधि। वैसे तो आज से तीन दिन के लिए पूरा भोपाल ही लॉक हो रहा है। प्रदेश के सभी नगरों जिसमें दमोह चुनाव के कारण प्रदेश से न्यारा हो रहा है। बाकी सभी नगर तीन दिन के लिए लॉकडाउन में शामिल रहेंगे। राजधानी का कोलार क्षेत्र विशेष कंटोनमेंट जोन बनाया गया है। इसमें आने वाले 4 वार्ड और शाहपुरा क्षेत्र के दो वार्ड को पूर्ण लॉकडाउन की क्षेणी में रखा गया है। इसमें आवाजाही पूर्ण रूप से बंद रहेगी। कोलार ऐसा क्षेत्र है जहां पूरे भोपाल के सक्रय मामलों का आधा हिस्सा इसी क्षेत्र से है। 1800 मरीज सक्रिय होने की जानकारी प्रशासन ने जारी की है। प्रशासन को सख्ती करने का कह दिया गया है। क्षेत्र के निवासियों को भी यह लग रहा है कि यह कदम उपयुक्त है क्योंकि प्रभावित व्यक्ति किसी की मानने को ही राजी नहीं है।
कलेक्टर अविनाश लवाणिया के आदेश के बाद जिला प्रशासन ने कोलार क्षेत्र में सत्र्तकर्ता बढ़ा दी है। अभी से ही वहां सख्ती बरती जा रही है। बिना मास्क के गाड़ी चलाने वाले हों या फिर क्षेत्र में आ-जा रहे हों निगम कर्मी चालान बना रहे हैं। उन पर किसी का प्रभाव नहीं पड़ता है इसलिए जेब खाली होना तो तय है।

पुलिस ने भी सक्रियता बढ़ा दी है। जिससे लोगों का सामान्य आवागमन अभी से प्रभावित हो गया है। हालांकि जरूरी वस्तुओं की खरीदी करने वालों की भीड़ बाजार में साफ देखी जा रही है। इससे भी संक्रमण फैलने का डर बना हुआ है। आज कोलार क्षेत्र के महिला एवं पुरूषों से बात की गई तो अधिकांश का कहना है कि इस क्षेत्र में प्रशासन आज इतनी सख्ती कर रहा है यहद समय रहने ऐसा कर लिया जाता तो यह दिन नहीं देखना पड़ते हैं। कोलार पहले दिन से ही अपना स्थान आगे ही रखा रहा है। इस अवधारणा को कोलार तोड़ रहा है कि विशेष क्षेत्र में कोरोना के प्रति अधिक लापरवाही है।
हालांकि प्रशासन ने कुछ जरूरी आपूर्ति के लिए छूट दी है लेकिन उसमें जरूरत का ध्यान रखा जायेगा। अब यह माना जा रहा है कि तेजी से बढ़े कोरोना के मरीजों को बचाने के लिए यह कदम जरूरी था। जिस प्रकार से प्रमुख शहरों में मरीज आ रहा है इससे यह लगता है कि लॉकडाउन का दायरा बढ़ाया जा सकता है।

सभी शहरों में बड़ी बिल्डिंग है जिनको अस्पताल बनायेंंगे : शिवराज

नर्मदा जयंति से की गई प्रतीज्ञा के अनुसार प्रतिदिन वृक्षारोपण के क्रम में आज चंपा का पौधा लगाने के बाद पत्रकारों से बात करते हुण् मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इस समय कोरोना भंयकर स्थिति में है। हम एक लाख बिस्तरों की व्यवस्था करने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि सभी शहरों में बड़ी बिल्डिंगें हैं। निजी अस्पतालों से कहेंगे कि वे यहां बेड तैयार करें। सुविधाओं को बढ़ायें। इससे हम परिस्थितियों को संभाल लेंगे। मुख्यमंत्री ने आज फिर साफ किया है कि प्रदेश में आक्सीजन की कोई कमी नहीं है। व्यवस्था को सुचारू चलाने के लिए हमने केन्द्र सरकार से बात की है उन्होंने सहयोग का आश्वासन दिया हैप् मंत्री पियुष गोयल से बात हुई है। शिवराज सिंह चौहान ने विरोधी नेताओं से अपील की है कि यह महामारी का समय है यह राजनीति करने का समय नहीं है। हम सब साथ मिलकर प्रदेश के लोगों की सुरक्षा में लगें। कमियां निकालने से पहले उन राज्यों को भी देखें जहां अन्य दलों की सरकारें हैं हम राजनीति न करें।

लॉकडाउन पर खरीदी की भीड़

आज शाम को 6 बजे से 9 दिन का लॉकडाउन होने कारण कोलार के रहने वालों ने व्यवस्थाएं करना शुरू कर दी हैं। घरेलु उपयोग के सामग्री के अलावा अन्य जरूरी काम निपटाये जा रहे हैं। इससे क्षेत्र में अवगमन बढ़ गया है। जिस सुरक्षा को लेकर लॉकडाउन लगाया गया है वह तो एक दिन पहले ही टूटती दिखाई दे रही है। मास्क के नाम पर नगर निगम के कर्मचारियों का तौर तरीका अब भोपाल में भी इंदौर जैसा हो रहा है। बंद गाड़ी में मास्क हटा होने पर चालान के नाम पर गाड़ी पर टूटते देख घबराहट होने लगती है। खरीदी अधिक होती देख बाजार में माल की कमी और भावों में अनावश्यक वृद्धि से उपभोक्ता परेशान दिखाई दे रहा है। लेकिन कोरोना की व्यवस्था सुधारने में बाकी व्यवस्थाएं बिखर रही हैं। यदि कोरोना का बचाव नहीं हो पाया तो व्यक्ति अन्य परेशानियों से रूबरू तो होगा ही।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button