कमिश्नर के निर्देश हुए बेअसर, नहीं बनी मॉनिटरिंग कमेटी

पांच दिन बाद भी सीसीटीवी के इंतज़ार नसबंदी केन्द्र

भोपाल। राजधानीवासियों को हिंसक कुत्तों के आतंक बचाने के लिए गत 14 मई को संभागायुक्त कार्यालय में हुई बैठक कमिश्नर ने जो निर्देश जारी किए थे, उन पर आज तक अमल नहीं हो पाया है। बैठक में प्लानिंग तो बनी, लेकिन पांच दिनों बाद सूरज नगर में बने नसबंदी केंद्र में सीसीटीवी ही लग पाया है। इस मामले में संभाग कमिश्नर कल्पना श्रीवास्तव के निर्देश भी बेअसर साबित हुए हैं और पांच दिनों बाद भी कुत्तों की नसबंदी, एंटी रैबीज वेक्सीनेशन को लेकर किए जा रहे कामों की मॉनिटरिंग कमेटी का गठन नहीं हो पाया है। इस मॉनीटरिंग कमेटी का गठन नगर निगम को करना था। आवारा कुत्तों के आतंक से बचाने के लिए कमिश्नर कार्यालय में पिछले दिनों हुई बैठक में सहमति बनी थी कि हिंसक कुत्तों के लिए अलग शेल्टर होम्स बनाया जाएगा, जहां उनका इलाज होगा। इसके अलावा नसबंदी और एंटी रैबीज वैक्सीनेशन के काम में तेजी लाई जाएगी और इसकी मॉनीटरिंग एक कमेटी करेगी। गौरतलब है कि शहर में आवारा कुत्तों के काटने की रोजाना 60-70 शिकायतें आती हैं लेकिन इस पर नियंत्रण नहीं लग पा रहा है। नगर निगम का सूरज नगर में मौजूदा नसबंदी सेंटर का विस्तार संभव नहीं है। 
    निगम अधिकारियों के अनुसार एनिमल बोर्ड के मापदंडों के हिसाब से इसके विस्तार की गुंजाइश नहीं बची है। दूसरे सेंटर खोलने के लिए जिला प्रशासन से जमीन मिलने का इंतजार है। यानी कुत्तों के हमलों और नियंत्रण में लंबा समय लगेगा। निगम के पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ.एसके श्रीवास्तव का कहना है कि एक दो दिन में मॉनिटरिंग कमेटी गठन हो जाएगा। निगम के पास डॉक्टर नहीं हैं, पशु चिकित्सा विभाग से कैंप लगाने के लिए सहयोग मांगा गया है। आवारा कुत्तों की आबादी पर रोक लगाने के लिए चार अतिरिक्त एनिमल बर्थ कंट्रोल सेंटर (एबीसी) सेंटर खोला जाएगा। निगम आयुक्त की अध्यक्षता में जिला स्तरीय मॉनिटरिंग कमेटी का गठन किया जाना है। शहर में कुत्तों का सर्वे होना है, इसमें कहां कितने हिंसक कुत्ते हैं इनकी पहचान की जानी है। ताकि इनका इलाज किया जा सके। कुत्तों के रजिस्ट्रेशन और एंटी रैबीज वैक्सीनेशन के लिए शहर में शिविर का आयोजन किया जाना है, लेकिन अब तक तारीख तय नहीं हुई। भोपाल प्लस एप में हेल्पलाइन नंबर दिया गया। वैक्सीनेशन हुए कुत्तों की पहचान के लिए विशेष रंग से टैग लगाने पर सहमति बनी है। लेकिन काम चालू नहीं हो पाया। सूरज नगर नसबंदी केंद्र में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए। यहां नवोदय वेट सोसायटी द्वारा रोजाना 15 से 20 नसबंदी होने का दावा किया जा रहा है, इसकी संख्या दोगुनी करने को कहा गया है। लेकिन इसके लिए स्टॉफ नहीं बढ़ाया गया। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button