एग्जिट पोल में मोदी ही मोदी भाजपा की बल्ले-बल्ले

प्रदेश में अनुमान सही हुआ तो नाथ सरकार खतरे में
भोपाल। [विशेष प्रतिनिधि] एग्जिट पोल के माध्यम से चुनाव के पूर्व अनुमान सामने आये तो मध्यप्रदेश की सरकार को लेकर आशंकाओं का दौर फिर से शुरू हो गया। कैलाश विजयवर्गीय ने यह कह कर सबको फिर से प्रदेश की राजनीति की ओर आकर्षित कर दिया कि यह सरकार 20-22 दिन चलेगी क्या? हालांकि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस प्रकार की आशंका को निर्मूल बताया है। फिर भी प्रदेश में सरकार की स्थिरता को लेकर सवाल उठना शुरू हो गये हैं। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी कह दिया हमें सरकार गिराने की जरूरत नहीं है अपने अन्तर्कलह में ही सरकार गिर जायेगी। यह सब लोकसभा के परिणाम की संभावनाओं के परिपेक्ष्य में कहा जाने लगा है।
सभी सर्वे को यदि सही मान लिया जाये तब भी प्रदेश में कांग्रेस दहाई का आकंड़ा भी पार नहीं कर पा रही है। कम से कम एक सीट और अधिक से अधिक 7 सीटों का अनुमान दिखाया गया है। ऐसे में कमलनाथ की सरकार के सामने संकट पैदा हो जायेगा। कांग्रेस के प्रभावशाली नेता कहने लग गये हैं कि नाथ को सरकार चलाना तो आता है और वे कारपोरेट दफ्तर की भांति चला भी रहे हैं लेकिन इसका लाभ पार्टी को नहीं मिल पाता है। चुनावी मेनेजमेंट में वे दक्ष नहीं हैं। यही कारण है कि करोड़ों किसानों को देने के बाद भी वे वोट नहीं दे रहे हैं। अन्दर तक मोदी की लहर है यह समझ में आ रहा है। कांग्रेस को सबसे अधिक सीटे यदि 7 मिली तब भी और कम से कम एक मिली तब भी प्रदेश की कमलनाथ सरकार को अन्दर और भाजपा की ओर से बड़ी चुनौती मिलने वाली है। कैलाश विजयवर्गीय ने सरकार गिराने की फिर से धमकी दी है। वे पहले भी कह चुके हैं कि यिद हायकमान कहे तो वे सरकार गिरा देंगे। आज शिवराज ने भी यही कहा है कि अपने बोझ से ही सरकार को गिर जाना है।
सूत्र बताते हैं कि अभी से यह तैयारी हो चुकी है कि हार का ठीकरा सिंधिया पर फोड़ा जाये। इसकी पटकथा उस समय मंचित होने लगी थी जब राहुल को मंत्री पद्ुमन तोमर की शिकायत की गई थी कि वे गुना में काम कर रहे हैं ग्वालियर में नहीं। इसलिए सरकार को गिराने के लिए अन्दरखाने में प्रयास शुरू हो गये हैं और अनुभवी कमलनाथ इस बार कैसे उसका रोक पायेंगे।

22 सीट जीतने का दावा करने वाले कमलनाथ 22 दिन सीएम रहेंगे या नहीं
मध्यप्रदेश के इंदौर में बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने सीएम कमलनाथ पर लोकसभा चुनाव में 22 सीट जीतने के दावे पर तंज कसा और जमकर कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने सीएम कमलनाथ पर तंज कसते हुए कहा कि चुनाव के बाद देखने होगा की कमलनाथ 22 दिन मुख्यमंत्री रहेंगे या नहीं, इस पर भी प्रश्नचिन्ह है। वहीं किसानों की कर्ज माफी पर राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने राज्य में सरकार आने से पहले 10 दिन में कर्ज माफी का वादा किया था और कर्ज माफी नहीं होने पर सीएम बदलने की बात कही थी. वही साध्वी के गोडसे वाले बयान पर कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि साध्वी ने माफी मांग ली, अब मामला खत्म होना चाहिए। वहीं सीएम कमलनाथ को लेकर इस बयान पर कांग्रेस के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कहा कि कमलनाथ पांच वर्ष ही नहीं, बल्कि कांग्रेस की सरकार राज्य में अगले 15 साल तक कमलनाथ जी के नेतृत्व में रहेगी।

दिग्विजय सिंह को नहीं है एक्जिट पोल पर भरोसा, कहा- जीतेंगे 14 से 17 सीटें
मध्य प्रदेश के दो बार के मुख्यमंत्री और भोपाल से कांग्रेस के उम्मीदवार दिग्विजय सिंह ने दावा किया है कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस 14 से 17 सीटें जीतने वाली है। दिग्विजय सिंह ने कहा कि देश में 2004 जैसा माहौल है इसलिए कुछ भी कह पाना मुश्किल है। उन्होंने कहा कि 23 तारीख को मतगणना के बाद ही स्थिति साफ हो पाएगी। मैं प्री और पोस्ट पोल सर्वे पर विश्वास नहीं करता हूं। उन्होंने कहा कि जनता के पोल पर भरोसा करता हूं।

भाजपा कार्यकर्ता की हत्या पर भड़के शिवराज, कहा-प्रदेश को बंगाल बनाने पर तुली है कांग्रेस
मतदान के बाद सांवेर विधानसभा के पालिया गांव में कांग्रेस नेता द्वारा भाजपा कार्यकर्ता नेमीचंद तंवर की गोली मारकर हत्या कर दी थी। हत्या के बाद प्रदेश की सियासत गरमा गई है। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तंवर की हत्या के बाद ट्वीट कर मुख्यमंत्री कमलनाथ और सांवेर के कांग्रेस विधायक तुलसी सिलावट को चेतावनी दी कि वो हिंसा और हत्याओं को खेल मध्य प्रदेश की धरती पर न शुरू करें। मध्यप्रदेश हमेशा से ही शांति का टापू रहा है। ऐसे में जो भी लोग इस हत्या में शामिल हैं, उन्हें पुलिस तत्काल गिरफ्तार करे। अगर ऐसा नहीं होगा तो भाजपा प्रदेश सरकार और प्रशासन के खिलाफ सड़कों पर उतरेगी। लोकसभा की हार के डर से बौखलाहट से कांग्रेस प्रदेश को पश्चिम बंगाल बनाने पर तुली है। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button